ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? Option trading kya hai

नमस्कार स्वागत है, आपका “स्टॉक पत्रिका” परिवार में, आज के इस लेख में हम सीखने वाले हैं कि ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? (Option trading kya hai) डियर पाठक, जब कोई नया-नया ट्रेडर स्टॉक मार्केट में आता है तो वह कंपनियों के शेयर खरीदता है, जैसे- रिलायंस, टाटा मोटर्स, इंफोसिस, अडा़नी पावर, और कई कंपनियां है जिनके नए लोग शेयर खरीदते हैं।

लेकिन जब वह फाइनेंशली कंफर्टेबल हो जाते हैं, और साथ ही मार्केट को बहुत ही बारीकी से समझ जाते हैं, तब वह इस ऑप्शन ट्रेडिंग को करते हैं, अब आगे हम आपको बताने वाले हैं, कि आखिर ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है? और नए लोगों को ऑप्शन ट्रेडिंग क्यों नहीं करनी चाहिए? ऑप्शन ट्रेडिंग किस प्रकार से होती है? इन सारे सवालों के जवाब आपको मिलने वाले है-

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? What is Option Trading?

डियर पाठक, अगर आपको हम ऑप्शन ट्रेडिंग सरल भाषा में बताए तो ऑप्शन ट्रेडिंग इंडेक्स के अंदर ट्रेड होती है जैसे कि निफ़्टी इसके अंदर आपको मार्केट के सेंटीमेंट को गहराई से रिसर्च करके यह पता लगाना होता है की मार्केट आने वाले सप्ताह यह महीने के अंदर कहां तक जाने वाला है कहने का मतलब कितना बढ़ने वाला है या कितना घटने वाला है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के ऑप्शन की एक ऐज होती है, जिसमें वह शून्य हो जाता है और जब यह जीरो होता है तो उसको हम एक्सपायरी कहते हैं।

एक्सपायरी डेट किस कहते हैं? एक्सपायरी डेट पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट बिल्कुल शून्य हो जाता है कहने का मतलब समाप्त हो जाता है उसे हम एक्सपायरी डेट कहते हैं।

एक्सपायरी डेट दो प्रकार की होती है

  1. वीकली एक्सपायरी (Weekly Expiry)
  2. मंथली एक्सपायरी (Monthly Expiry)

ऑप्शन ट्रेडिंग के कितने प्रकार होते हैं? types of options trading?

ऑप्शन ट्रेडिंग में आप किसी भी सिक्योरिटी, इंडेक्स या स्टॉक में ट्रेड कर सकते है। यहाँ पर आप स्टॉक को लेकर बुलिश है या बेयरिश उसके आधार पर आप ऑप्शन में ट्रेड कर सिक्योरिटी को स्ट्राइक प्राइस पर खरीदने या बेचने का अधिकार रखते है।

अब यहाँ पर यह आपके ऊपर निर्भर करता है की ऑप्शन को किस मानसिकता या ट्रेंड के आधार पर ट्रेड कर रहे है उसके अनुसार दो प्रकाश के ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट होते है जिसके आधार पर ऑप्शन में ट्रेडिंग कर सकते हैं।

  1. कॉल ऑप्शन (CE)
  2. पुट ऑप्शन (PE)

कॉल ऑप्शन (CE)

अगर कॉल ऑप्शन को हम आपको सरल शब्दों में समझाने का प्रयास करें तो, अगर आपका मार्केट व्यु या आपको लगता है किसी स्टॉक या इंडेक्स की प्राइस ऊपर जाने को है तब आप उसका कॉल ऑप्शन खरीदते हैं, जिसमें की आप कम कैपिटल के साथ अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है।

पुट ऑप्शन (PE)

अगर पुट ऑप्शन को हम आपको सरल शब्दों में समझाने का प्रयास करें तो, अगर आपको लगता है किसी स्टॉक या इंडेक्स की प्राइस नीचे जाने वाली है तब आप उसका पुट ऑप्शन खरीदते हैं, जिसमें की आप कम कैपिटल के साथ अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है।

कॉल और पुट दोनों को एक साथ समझाने का प्रयास करे तो अगर आप मार्केट में किसी भी शेर इंडेक्स जैसे की निफ़्टी आज की तारीख में शेयर की कीमत 17000 रुपए हैं लेकिन आप इसे ऑप्शन ट्रेडिंग में ₹5 से लेकर ₹1000 तक खरीद सकते हैं इसलिए कम पैसों में ऑप्शन ट्रेडिंग में ज्यादा शेयर खरीदे जा सकते हैं।

NOTE – ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही तेज होती है यहां पर आपको काफी फुर्ती रखनी होती है क्योंकि ऑप्शन पलक झपकते ही जीरो से हीरो बना देता है और पलक झपकते ही हीरो से जीरो बना देता है

अगर आपको इसका हम एक लाइन में उत्तर दें तो यह बिगनर लोगों के लिए नहीं है स्टॉक पत्रिका का सुझाव है कि नए लोग ऑप्शन ट्रेडिंग नहीं करें हां जब आप सीख गए तब अवश्य ऑप्शन ट्रेडिंग से मोटा पैसा कमाए यह हमारी शुभकामनाएं हैं आपको

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं? How to do Option Trading in hindi?

आप्शन ट्रेडिंग आप एक ऑनलाइन डीमैट अकाउंट (ब्रोकरेज खाते) के माध्यम से कर सकते हैं जो स्व – निर्देशित ट्रेडिंग करने की अनुमति देता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपको एक डीमैट अकाउंट खोलना होगा। डीमेट अकाउंट खोलने के पश्चात आप स्टॉकब्रोकर द्वारा प्रोवाइड किए गए ट्रेडिंग एप का इस्तेमाल कर आसानी से ऑप्शन में ट्रेड कर सकते है।

ऑप्शन ट्रेडिंग करने से पहले आपको कुछ बातें जरूर जानी चाहिए जिससे कि आपको ऑप्शन ट्रेडिंग करने में आसानी हो।

  1. सिंबल – स्टॉक सिंबल का मतलब है कि एक ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट से जुड़ी किसी स्टॉक या इंडेक्स की पहचान करने के लिए उपयोग किया जाता है। जैसे – Nifty 17500 CE, Bank Nifty 38000 CE
  2. स्ट्राइक प्राइस – स्ट्राइक प्राइस जिस पर आप ऑप्शन का प्रयोग करने में सक्षम होते हैं,
  3. प्रीमियम – ऑप्शन को खरीदने की लागत को प्रीमियम कहते है।
  4. एक्सपायरी डेट – एक्सपायरी डेट पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट बिल्कुल शून्य हो जाता है कहने का मतलब समाप्त हो जाता है उसे हम एक्सपायरी डेट कहते हैं

ऑप्शन ट्रेडिंग में ध्यान रखने वाले टिप्स

  1. सही स्ट्राइक प्राइस का चयन करें
  2. रिस्क को मैनेज करके चले
  3. समय मूल्य व्यवहार का ध्यान रखें
  4. ऑप्शन ग्रीक को समझने का प्रयास करें और इसे हंड्रेड परसेंट सीखें
  5. ऑप्शन ट्रेडिंग में अपने फाइनैंशल गोल बनाएं

ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे! Benefits of options trading

  1. यह ट्रेडिंग फ्लैक्सिबिलिटी के साथ – साथ लिक्विडिटी भी प्रदान करता है।
  2. अन्य प्रकार की ट्रेडिंग विकल्पों की तुलना में, आप यहां पर कम कैपिटल के साथ ट्रेड करने में सक्षम होते हैं।
  3. डिअर पाठक यह तो आपको पता ही है ऑप्शंस का उपयोग हेंजिग के लिए भी क्या जाता है हेंजिग से क्या होता है कि आप अपने पोर्टफोलिओं को मार्केट में आने वाले उतार – चढ़ाव की वजह से होने वाले नुकसान से बच सकते है।
  4. आपको बता दें कि ऑप्शंस में आप कोई भी मार्केट कंडीशन को अप्लाई कर सकते हैं जबकि अन्य ट्रेडिंग विकल्प में यह पॉसिबल नहीं है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के नुकसान!

  1. ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही रिस्की होता है यहां पर व्यक्तिगत स्टॉक, ईटीएफ या बांड खरीदने की तुलना में ऑप्शन ट्रेडिंग में बहुत ही ज्यादा जोखिम उठाना पड़ सकता है इसलिए ऑप्शन ट्रेडिंग का यह एक नेगेटिव पॉइंट्स है।
  2. डिअर पाठक स्टॉक प्राइस के मूवमेंट की भविष्यवाणी करना मुश्किल हो सकता है इसलिए यहां पर मार्केट के सेंटीमेंट को समझना थोड़ा सा अधिक कठिन है क्योंकि यदि आपका अनुमान गलत हो जाता है, तो ऑप्शन ट्रेडिंग आपको बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है।
  3. ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए स्टॉक या इंडेक्स का विश्लेषण करना इक्विटी स्टॉक से अलग होता है इसलिए ज़रूरी है की आप ऑप्शन ट्रेडिंग को अच्छे से समझने के बाद ही इसमें ट्रेड करें।

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे सीखें? How to learn options trading?

देखिए ऑप्शन ट्रेडिंग करना नए लोगों के लिए बहुत ही मुश्किल हैं पर वह कहते हैं ना नामुमकिन जैसी कोई चीज नहीं इसलिए पहले आप ट्रेडिंग को अच्छे से सीख जाइए फिर ऑप्शन के अंदर आइए ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए वैसे तो कई ट्रेनर दावे करते हैं कि हम आपको ऑप्शन ट्रेडिंग सिखा देंगे लेकिन उनको सिर्फ अपना कोर्स सेल करना है और आप अंदर के राज कभी नहीं जान पाएंगे इसलिए अगर आपको फ्री में ऑप्शन ट्रेडिंग सीखनी है तो स्टॉक पत्रिका जल्द ही आपके लिए एक यूट्यूब चैनल शुरू कर रहा है जिसमें आपको बिल्कुल मुफ्त में ऑप्शन ट्रेडिंग सिखाई जाएगी तो आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं

Conclusion

आपने आज सीखा की ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? Option trading kya hai, ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करनी चाहिए और ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे सीखें ऑप्शन ट्रेडिंग के कितने प्रकार होते हैं और फिर भी अगर आपका कोई ऑप्शन ट्रेडिंग से लेकर सवाल है तो आप बेझिझक हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं हमारी टीम आपके सवालों के उत्तर देने के लिए सदैव तत्पर है स्टॉक पत्रिका पर अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

1 thought on “ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? Option trading kya hai”

  1. Pingback: शेयर मार्केट चार्ट कैसे समझे जानिए कुछ आसान तरीके। Share Market Chart in Hindi » Stock Patrika

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!