Fii और Dii क्या होते हैं

Fii और Dii क्या होते हैं : शेयर बाजार में व्यापारी और निवेशक मिलकर बाजार को एक व्यापक बाजार बनाते हैं, लेकिन इन व्यापारियों और निवेशकों के बीच विभिन्न प्रकार के निवेशक होते हैं, जिनमें Fii- (Foreign Institutional Investors) Dii- (Domestic Institutional Investors), खुदरा निवेशक, उच्च शामिल हैं। निवल मूल्य वाले लोग, जो निवेशक इक्विटी में निवेश करते हैं उन्हें खुदरा निवेशक कहा जाता है, और जो वास्तव में बाजार को आगे बढ़ाते हैं उन्हें संस्थागत निवेशक कहा जाता है।

Fii

आइए एक-एक करके Fii या Dii के बारे में जानते हैं कि ये कौन हैं और इनका काम क्या है?

Fii – Foreign Institutional Investors

एफआईआई – Foreign Institutional Investors ये वे निवेशक हैं जो भारत में निवेश तो करते हैं लेकिन इस देश के नागरिक नहीं हैं। इसलिए इन्हें एफआईआई निवेशकों के रूप में जाना जाता है, अब ये किसी भी देश के म्यूचुअल फंड या बीमा कंपनियां हो सकते हैं, ये बड़ी मात्रा में निवेश करते हैं और हमारी अर्थव्यवस्था के विकास में योगदान देने की क्षमता भी रखते हैं।

Dii – Domestic Institutional Investors

डीआईआई – Domestic Institutional Investors वे होते हैं जो उसी देश के निवासी होते हैं जिस देश के शेयर बाजार में निवेश करके पैसा कमाना चाहते हैं। डीआईआई बीमा कंपनियों और म्यूचुअल फंड, लिक्विड फंड और अन्य वित्तीय उपकरणों में भी निवेश कर सकते हैं, और अक्सर पाते हैं कि राजनीतिक और आर्थिक दोनों गतिशीलता डीआईआई निवेश निर्णयों को प्रभावित करती हैं। परिणामस्वरूप, घरेलू संस्थागत निवेशकों के पास अर्थव्यवस्था में शुद्ध निवेश प्रवाह को प्रभावित करने की एफआईआई जितनी ही क्षमता है।

भारतीय शेयर बाजार को नियंत्रित करने के लिए, घरेलू संस्थागत निवेशक एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और खासकर जब Foreign Institutional Investors देश में शुद्ध विक्रेता होते हैं।

Whatsapp Channel 👉यहां क्लिक करें 😍
Telegram Channel 👉यहां क्लिक करें 😍

संस्थागत निवेशक कौन है?

संस्थागत निवेशक वे होते हैं जो वित्तीय परिसंपत्तियों की एक विस्तृत श्रृंखला खरीदने के लिए बड़ी संख्या में व्यक्तियों या संगठनों से धन एकत्र करते हैं। क्योंकि संस्थागत निवेशक अक्सर स्टॉक, बॉन्ड या अन्य प्रतिभूतियों के ब्लॉक खरीदते और बेचते हैं, और उन्हें शेयर बाजार का शार्क कहा जाता है, संस्थागत निवेशकों को Fii या Dii के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

Fii और Dii के प्रकार

Foreign Institutional Investors और Domestic Institutional Investors के प्रकार विस्तार से निम्नलिखित हैं –

सबसे पहले हम Fiis के प्रकारों के बारे में विस्तार से जानेंगे

Fiis

FII के कुछ प्रकार इस प्रकार हैं

  1. Sovereign Wealth Funds – सॉवरेन वेल्थ फंड एक प्रकार का निवेश कोष है जो राज्य सरकार द्वारा प्रशासित होता है और सरकार द्वारा वित्त पोषित होता है, आमतौर पर अधिशेष भंडार की बिक्री के माध्यम से। एसडब्ल्यूएफ के विकास से न केवल देश की अर्थव्यवस्था को लाभ होता है बल्कि इसके निवासियों को भी लाभ होता है।
  2. Foreign Government Agencies – एक विदेशी एजेंसी एक विदेशी संस्था या संगठन या एजेंट है जो कल्याणकारी सेवाएं करने के लिए दूसरे देश के कानून द्वारा अधिकृत है।
  3. International Multilateral Organisation – बहुपक्षीय संगठन तब बनते हैं जब तीन या अधिक देश उन मुद्दों पर काम करने के लिए एक साथ आते हैं जो उनमें से प्रत्येक के लिए प्रासंगिक होते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि वैश्विक मुद्दों के प्रबंधन में हर किसी की हिस्सेदारी हो, साथ ही, बने रहने का कोई भी प्रयास कानूनी होना चाहिए।
  4. Foreign Central Banks – एक विदेशी केंद्रीय बैंक एक ऐसा बैंक है जो सरकार के अलावा एक प्राथमिक प्राधिकरण है जो कानूनी या सरकारी अनुमोदन के तहत धन के रूप में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों को जारी करता है। केंद्रीय बैंक एक वित्तीय संस्थान है जो किसी देश की मुद्रा के भंडार के रूप में कार्य करता है।

DIIs

DII के कुछ प्रकार इस प्रकार हैं –

  1. Indian Insurance Companies – पिछले कुछ दशकों में भारत में बीमा कंपनियों का महत्व काफी बढ़ गया है। क्योंकि बीमा कंपनियां गंभीर बीमारी या अचानक मृत्यु की स्थिति में वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती हैं।
  2. Indian Mutual Funds Corporation – भारत में म्यूचुअल फंड का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, क्योंकि वे निवेश के लिए उपयोग किए जाने वाले सबसे आम वित्तीय साधनों में से एक हैं। क्योंकि म्यूचुअल फंड निवेशक की जोखिम सहनशीलता को ध्यान में रखते हुए एकत्रित धन को वांछनीय संपत्तियों में निवेश करते हैं।
  3. Indian Banks and Other Financial Institutions – बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान बीमा और कई अन्य प्रकार की बीमा जैसी विभिन्न सेवाएँ प्रदान करते हैं। इन संपत्तियों से होने वाले मुनाफे को फिर इक्विटी बाजार में निवेश किया जाता है।

Also Read 👇

  1. बजट क्या है, बजट क्यों बनाते हैं
  2. स्काल्पिंग ट्रेडिंग क्या होती है
  3. India Vix Kya Hai | पैसे कैसे कमाए

FII Vs DII

Foreign Institutional Investors और Dii के बीच अंतर निम्नलिखित हैं –

Main PointFIIDII
Location or headquartersFii और Dii के बीच मुख्य अंतर निवेश का स्थान है। क्योंकि विदेशी संस्थागत निवेशक निवेश के देश में नहीं रहते हैंDomestic Institutional Investors (डीआईआई) वे लोग हैं जो निवेश के देश में रहते हैं।
Limits on Total Amount of InvestmentFii कंपनी की कुल चुकता पूंजी का केवल 24% ही निवेश कर सकते हैं।जबकि DII का स्वामित्व ऐसे प्रतिबंधों के अधीन नहीं है।
Stock market holdingsNifty 500 में शामिल लगभग 21% कंपनियों पर Fii का स्वामित्व है।दूसरी ओर, DII के पास निफ्टी 500 व्यवसायों में सभी शेयरों का लगभग 14% हिस्सा है।
Investing StyleForeign Institutional Investors छोटी से मध्यम अवधि को ध्यान में रखकर निवेश करते हैं।दूसरी ओर, घरेलू संस्थागत निवेशक दीर्घकालिक निवेश करते हैं।

Fii और dii निवेश को प्रभावित करने वाले कारक

बाजार के रुझान की भविष्यवाणी करने और सूचित निवेश निर्णय लेने के लिए एफआईआई और डीआईआई निवेश को प्रभावित करने वाले कारकों को समझना महत्वपूर्ण है। आइए तीन महत्वपूर्ण कारकों का पता लगाएं जो इन संस्थागत निवेशकों को प्रभावित करते हैं।

Economic Indicators

जीडीपी विकास दर, मुद्रास्फीति दर, ब्याज दरें और राजकोषीय नीतियों जैसे आर्थिक संकेतकों का Fii और Dii निवेश पर सीधा प्रभाव पड़ता है। सकारात्मक आर्थिक संकेतक विदेशी निवेशकों को आकर्षित करते हैं और घरेलू संस्थानों को बाजार में अपना जोखिम बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

“भारतीय शेयर बाज़ार के प्रदर्शन का देश के व्यापक आर्थिक संकेतकों के साथ एक मजबूत संबंध है।” – वित्तीय विश्लेषक

Regulatory Framework

सरकार द्वारा निर्धारित नियामक ढांचा और नीतियां निवेश की आसानी और एफआईआई और डीआईआई के लिए बाजार के आकर्षण को प्रभावित करती हैं। निवेशक-अनुकूल नीतियां और सरलीकृत नियम अधिक संस्थागत निवेश को आकर्षित करते हैं, जबकि जटिल और प्रतिबंधात्मक नीतियां उन्हें रोक सकती हैं।

“एक मजबूत नियामक ढांचा सुनिश्चित करना जो पारदर्शिता को बढ़ावा देता है, निवेशकों के हितों की रक्षा करता है, और एक समान अवसर प्रदान करता है, संस्थागत निवेश को बढ़ावा दे सकता है और बाजार के विश्वास को मजबूत कर सकता है।” – नियामक विशेषज्ञ

Fii Or Dii Kya Hai FAQ
Fii और dii में क्या अंतर है

एफआईआई और डीआईआई के बीच प्राथमिक अंतर निवेशक का स्थान है। विदेशी संस्थागत निवेशक (Fii) निवेश दूसरे देशों में करते हैं घरेलू संस्थागत निवेशक (Dii) वे लोग हैं जो अपने ही देश में निवेश करते हैं

शेयर बाजार में fii और dii क्या है?

विदेशी संस्थान, उदाहरण के लिए, मॉर्गन स्टेनली, वैनगार्ड, आदि, जो भारतीय शेयर बाजार में निवेश करते हैं, एफआईआई के उदाहरण हैं। उदाहरण के लिए, भारतीय संस्थान, एलआईसी, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल, आदि भारतीय कंपनियों में निवेश करना भारतीय बाजार के लिए डीआईआई के उदाहरण हैं।

Fii और Dii डेटा क्या है

Foreign Institutional Investors और Dii डाटा को खरीद और बिक्री मूल्य का उपयोग करके पढ़ा जा सकता है, लेकिन इसके शुद्ध मूल्य पर ध्यान देना सबसे अच्छा है। इससे आपको किसी भी स्टॉक के संबंध में सर्वोत्तम निर्णय लेने में मदद मिलेगी। यदि एफआईआई या डीआईआई का शुद्ध मूल्य सकारात्मक है, तो उनकी शुद्ध खरीदारी होती है; यदि यह नकारात्मक है, तो उनकी शुद्ध बिक्री होती है।

fII और DII का अनुपात क्या है?

किसी भी समय अवधि के लिए, एफआईआई और डीआईआई ‘स्वामित्व अनुपात’ कुल एफआईआई इक्विटी होल्डिंग्स को कुल डीआईआई होल्डिंग्स से विभाजित करने के बराबर होता है।

FII और DII का फुल फॉर्म क्या है?

Foreign Institutional Investors (Fii) का पूरा नाम विदेशी संस्थागत निवेशक है, और DII का पूरा नाम घरेलू संस्थागत निवेशक है।

Whatsapp Channel 👉यहां क्लिक करें 😍
Telegram Channel 👉यहां क्लिक करें 😍
Fii और Dii क्या है Conclusion

संस्थागत निवेशक वे होते हैं जो वित्तीय संपत्ति खरीदने के लिए व्यक्तियों या संगठनों से धन एकत्र करते हैं, और उन्हें एफआईआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) या डीआईआई (Domestic Institutional Investors) के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

Foreign Institutional Investors विदेशी निवेशक हैं जो भारत में निवेश करते हैं, जबकि डीआईआई देश के निवासी हैं जो शेयर बाजार में निवेश करते हैं। आर्थिक संकेतक, बाजार की भावनाएं और नियामक ढांचा जैसे कारक उनके निवेश निर्णयों को प्रभावित करते हैं। Fii और Dii के बीच मुख्य अंतर निवेश का स्थान है, और उनकी निवेश शैली और स्वामित्व सीमाएँ अलग-अलग हैं।

1 thought on “Fii और Dii क्या होते हैं”

Leave a Comment