मार्जिन ट्रेडिंग क्या है, What is Margin Trading in Hindi

मार्जिन ट्रेडिंग क्या है

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि (MTF) मार्जिन ट्रेडिंग क्या है, What is Margin Trading in Hindi, डियर पाठक मार्जिन ट्रेडिंग को यूं समझिए जैसे कि अभी आपको कोई चीज खरीदनी है और आपके पास पैसे नहीं है तो आपके दिमाग में यह ख्याल आता है कि काश थोड़े पैसे होते तो,

मैं इस चीज को खरीद लेता ठीक उसी प्रकार मार्जिन ट्रेडिंग हैं, यहां पर आप अपनी खरीदने की क्षमता से 4 गुना अधिक फायदा उठा सकते हैं। जी हां बिल्कुल मार्जिन ट्रेडिंग (MTF) में यह सुविधा उपलब्ध है। और यह सुविधा एक इन्वेस्टर को कैसे मिलेगी इस आर्टिकल में जानेंगे इसलिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

उदाहरण के लिए–‌ आपका खाता शेष = ₹50,000

एमटीएफ (MTF) आपको 4x तक खरीदने की शक्ति प्रदान करता है = ₹2,00,000 (50,000 x 4)

शॉर्ट सेलिंग क्या है मार्केट में इसका इस्तेमाल कैसे करें?

मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है?

बुल मार्केट और बियर मार्केट क्या है जानियें आसान भाषा में

मार्जिन ट्रेडिंग क्या है? What is Margin Trading?

स्टॉक मार्केट में मार्जिन ट्रेडिंग का मतलब उस प्रोसेस से हैं, जहां व्यक्तिगत (individual) इन्वेस्टर अपने शेयर खरीदने की क्षमता से अधिक शेयर्स खरीदते हैं। इंडिया में मार्जिन ट्रेडिंग इंट्राडे ट्रेडिंग को भी परिभाषित करती हैं। मार्जिन ट्रेडिंग की फैसिलिटी लगभग सभी ब्रोकर्स प्रोवाइड करवाते हैं। मार्जिन ट्रेडिंग के अंदर एक सिंगल सेशन में सिक्योरिटीज की खरीददारी और बिक्री शामिल रहती है। समय के साथ लगभग सभी ब्रोकर ने टाइम ड्यूरेशन के मामले में कुछ ढील दी है।

मार्जिन ट्रेडिंग में इन्वेस्टर एक पर्टिकुलर सेशन में शेयर के चाल का अनुमान लगाते हैं। और आज के दौर में इलेक्ट्रॉनिक स्टॉक एक्सचेंजो की बदौलत, अब मार्जिन ट्रेडिंग छोटे ट्रेडर्स के लिए भी अवेलेबल है। डियर पाठक आपको बता दें कि मार्जिन ट्रेडिंग की प्रोसेस काफी सिंपल है।

मार्जिन अकाउंट,‌ इन्वेस्टरो को अपने स्टॉक खरीदने की क्षमता से ज्यादा स्टॉक‌ खरीदने के संसाधन उपलब्ध करवाता है। और इस प्रोसेस को पूरा करने के लिए ब्रोकर इन्वेस्टर को शेयर खरीदने के लिए पैसे उधार देता है। और शेयरों को अपने पास गिरवी रख लेता है। आपको बता दें कि मार्जिन अकाउंट खुलवाने के लिए पहले अपने डिमैट अकाउंट ब्रोकर को रिक्वेस्ट करनी पड़ती है। और डियर पाठक इसके लिए ब्रोकर को कैश पेमेंट करना होता है, जिससे सिंपल भाषा में मिनिमम मार्जिन कहते हैं।

अकाउंट खुल जाने के बाद क्या करना होता है। What to do after opening an account?

अकाउंट खुल जाने के बाद इन्वेस्टर को इनिशियल मार्जिन का भुगतान करना होता है। और यह टोटल कारोबार वैल्यू का निश्चित प्रतिशत होता है, और इसको ब्रोकर निर्धारित करता है। मार्जिन अकाउंट से ट्रेडिंग शुरू करने से पहले इन्वेस्टर को तीन महत्वपूर्ण स्टेप्स ध्यान में रखने पड़ते हैं।

  1. सेशन के जरिए मिनिमम मार्जिन को मेंटेन करना होता है।
  2. हर ट्रेडिंग सेशन के खत्म होने पर अपनी पोजीशन पर वापस लौटना होता है। यानी अगर आपने कोई शेयर खरीदे हैं, तो उन्हें बेचना होगा, और अगर आपने शेयर बेचे हैं तो उन्हें सेशन खत्म होने से पहले खरीदना होगा।
  3. ट्रेडिंग के बाद शेयरों को डिलीवरी ऑर्डर में कन्वर्ट करना होता है।

निष्कर्ष, मार्जिन ट्रेडिंग क्या है

डियर पाठक आज के इस लेख, मार्जिन ट्रेडिंग क्या है, What is Margin Trading in Hindi के माध्यम से हमने जाना कि मार्जिन ट्रेडिंग क्या होती है और मार्जिन ट्रेडिंग का लाभ कैसे उठा सकते हैं। और आपके कुछ सामान्य प्रसन है जिनके उत्तर आपको नीचे मिलेंगे आप इसके लिए‌ FAQS सेक्शन को देखें।

FAQS

मार्जिन ट्रेडिंग (MTF) कैसे काम करता है?

डियर पाठक मार्जिन ट्रेडिंग के साथ आप अपनी क्रय शक्ति को 4x तक बढ़ा सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके खाते में 100,000 रुपये हैं तो आप अपनी क्रय क्षमता को 500,000 रुपये तक बढ़ाने के लिए MTF के तहत 400,000 रुपये तक प्राप्त कर सकते हैं।

मार्जिन ट्रेडिंग पर कितना ब्याज़ लिया जाता है?

जब तक कि उधार ली गई राशि का पुनर्भुगतान या व्यापारी स्थिति से बाहर न हो जाए तब तक 0.049% प्रति दिन (18% प्रति वर्ष) का ब्याज तब तक लिया जा सकता है । 

(MTF) मार्जिन ट्रेडिंग को पूरा करने की समय सीमा क्या है?

मार्जिन ट्रेडिंग को पूरा करने की समय सीमा क्या है?
आपको उसी दिन रात 9 बजे तक अपने संबंधित शेयरों को गिरवी रखना होगा। अन्यथा, शेयरों को T+7 दिन पर चुकता कर दिया जाएगा।

error: Content is protected !!