स्टॉप लॉस क्या है और कैसे लगाएं

जब आप शेयर मार्केट के अंदर ट्रेडिंग या इनस्टमेंट कुछ भी करते हो तो स्टॉप लॉस आपको नुकसान होने से बचाता है जानिए कैसे जब आप शेयर बाजार में एक शेयर का चुनाव करते है इसके बाद उसमें आप अपना सौदा बना लेते हैं लेकिन मान लेते हैं कि आपका यह सौदा आपकी एनालिसिस के हिसाब से नहीं चला और आपको घाटा होने लगा तो यहां पर आपको एक स्टॉपलॉस बचाएगा इसीलिए कहते हैं कि जब किसी भी शेयर का चुनाव करते हैं तो हमें उसमें पहले से ही कितना टारगेट और कितना लॉस होने वाला है यह प्लान कर लेना चाहिए ताकि हमें ज्यादा नुकसान ना हो इस तरह से व्यक्ति को एक स्टॉप लॉस ज्यादा नुकसान होने से बचाता है

स्टॉप लॉस क्या है

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के लिए स्टॉप लॉस का उपयोग किया जाता है इसको एक निश्चिंत कीमत पर सेट कर दिया जाता है और जब इस कीमत पर वह शेयर आता है तो आपको नोटिफिकेशन आ जाता है कि आपका स्टॉप लॉस ट्रिगर हो गया है और

आप जाकर उस शहर से बाहर निकल सकते हो इस तरह से स्टॉपलॉस आपके नुकसान से बचाने का काम करता है शेयर बाजार में नुकसान से बचने का यह एक सबसे अच्छा तरीका है

स्टॉप लॉस कैसे लगाएं

जब आप अपने डीमेट अकाउंट में ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग करते समय किस शेयर को खरीदते हैं तो खरीद समय कहां पर आपको स्टॉप लॉस की सुविधा भी दी जाती है जहां पर आप एक निश्चित कीमत को प्लान कर सकते हैं इस तरह से आपका डीमेट और ट्रेडिंग अकाउंट किसी भी ब्रोकर के पास हो वहां पर आपको स्टॉप लॉस की सुविधा जरूर दी जाती है

इस तरह से आप स्टॉपलॉस लगा सकते हैं स्टॉप लॉस लगाते समय आपको उस शेयर के चार्ट को भी देख लेना चाहिए और वहीं पर स्टॉप लॉस लगाना चाहिए जहां पर वह शेयर सपोर्ट या रजिस्टेंस ले रहा है

Stop-loss meaning in Share Market

स्टॉप लॉस का सबसे सिंपल मतलब यह है कि यह आपको नुकसान होने से बचाता है साथ ही है आपके इमोशन पर कंट्रोल रखने में भी मदद करता है क्योंकि जब आप किसी शेयर को खरीदते है और आपने अपनी स्टॉपलॉस को पहले से ही प्लान कर रखा है

तो जैसे ही वहां पर उस शेयर की कीमत आती है आप उससे फिर से बाहर निकल जाते हो और अपना ज्यादा नुकसान होने से खुद को बचा लेते हैं इस तरह से डॉक्टर साहब को हमेशा नुकसान से बचा कर रखता है

शेयर बढ़ने पर स्टॉप लॉस से लगाएं

जब आप किसी शेयर को खरीदते या बेचते हैं और वह शेयर उसी दिशा में जहां तक आपका टारगेट है उसी दिशा में जा रहा है तो वहां पर आपको अपने स्टॉपलॉस को ट्रायल करना पड़ता है इसका मतलब ऐसा होता है कि यदि आप का स्टॉपलॉस ₹50 पर है और अब वह ₹55 पर चला गया है तो आप अपने स्टॉप लॉस को ₹54 पर ले जाकर रख देते हो जिसके कारण यदि में शेयर वापिस नीचे आता है

तो भी आप फायदे में ही रहते हैं इस तरह से आप बढ़ते हुए शेयर पर भी स्टॉपलॉस लगा सकते हैं

Leave a Comment