Trading Meaning in Hindi | ट्रेडिंग क्या होती है

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख में हम जानेंगे कि ट्रेडिंग क्या होती है (Trading Meaning in Hindi) क्योंकि स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टर दो प्रकार के होते हैं अब एक होते हैं, ट्रेडिंग करने वाले यानी ट्रेडर और दूसरे होते है इन्वेस्टर जो निवेश करते हैं। अब हमने निवेश के बारे में तो निवेश क्या होता है वाले लेख में बात की थी।

लेकिन अब हम जानेंगे कि ट्रेडिंग का मतलब क्या होता है और ट्रेडिंग कैसे की जाती है। अगर आप भी शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं या ट्रेडिंग करना चाहते हैं, तो आप सबसे पहले यह जान लीजिए कि ट्रेडिंग होती क्या है, तो इन्हीं सवालों के जवाब हम इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले हैं, इसलिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें –

ट्रेडिंग क्या है? (Trading in Hindi)

Trading Meaning in Hindi – ट्रेडिंग का मतलब होता है व्यापार या कारोबार अगर इसको सिंपल भाषा में समझने का प्रयास करें तो ट्रेडिंग का मतलब होता है किसी वस्तु या सेवाओं को कम भाव में खरीदना और अधिक भाव में बेचने की उम्मीद रखना इसे ही ट्रेडिंग कहते हैं।

चलिए इसे हम थोड़ा विस्तार से उदाहरण के माध्यम से समझते हैं, ताकि आपको ट्रेडिंग का मतलब अच्छी तरह से समझ में आ जाए।

जैसे कि हमारे आपके घर के पास में फेरीवाले कुछ ना कुछ सामान बेचने आते हैं, उदाहरण के लिए कोई फेरीवाला प्लास्टिक के बर्तन बेचता है, तो उसका मतलब यह है कि वह प्लास्टिक की ट्रेडिंग करने का व्यापार करता है यानी कि वह प्लास्टिक का कारोबार करता है।

वह मार्केट से होलसेल में सामान खरीदना है जो उसे डिस्ट्रीब्यूटर प्राइस पर मिल जाते हैं यानी कि कम दामों में खरीद कर आपके घर तक अधिक दामों में बेचता है।

कहने का मतलब हर वह कार्य जो कम दाम में खरीद कर अधिक दाम में बेचता है उसे ट्रेडिंग यानी कि व्यापार कहते हैं, जैसे कोई कंपनी सामान बनाती है, तो वह अपने डिस्ट्रीब्यूटर को DP प्राइस पर बेचती हैं और फिर डिस्ट्रीब्यूटर दुकानों को होलसेलर रेट में बेचता है और दुकान वाले ग्राहक को MRP पर बेचते हैं। इस प्रकार हर कोई अपना मुनाफा निकाल कर सामान को अधिक रेट में बेच रहा है इसे ही व्यापार कहते हैं।

शेयर ट्रेडिंग के प्रकार (Types of Stock Trading in Hindi)

मुख्यतः ट्रेडिंग के पांच प्रकार होते हैं जो निम्नलिखित हैं।

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग
  2. पोजीशनल ट्रेडिंग
  3. स्कैल्पिंग ट्रेडिंग
  4. लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग
  5. स्विंग ट्रेडिंग

1⃣ इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होती है

जब इन्वेस्टर स्टॉक मार्केट में एक दिन के अन्दर ही शेयर को खरीदते और बेचते हैं उसे Intraday Trading कहते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग को निवेशक स्टॉक मार्केट के खुलने से लेकर बंद होने के बीच में कर सकते हैं.

इंट्राडे ट्रेडिंग का टाइम: भारतीय स्टॉक मार्केट मवार से शुक्रवार तक सुबह 9:15 से लेकर दोपहर 3:30 तक खुला रहता है और सभी Holidays में बंद रहता है. अतः आप Intraday Trading सुबह 9:15 से लेकर दोपहर 3:15 बजे तक कर सकते हैं।

2⃣ पोजीशनल ट्रेडिंग किसे कहते हैं?

पोजिशनल ट्रेडिंग एक ऐसी रणनीति है जहां ट्रेडर, स्टॉक्स को एक लम्बे समय तक होल्ड करके रख सकता है। इस सेगमेंट में आप शेयर को कुछ हफ़्तों, कुछ महीनों और ज्यादा से ज्यादा 1 साल तक अपने डीमैट खाते में होल्ड करके रख सकते हैं और फिर उन्हें बेच कर प्रॉफिट कमा सकते हैं।

3⃣ स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या है

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा उछाल वाले स्टॉक्स को चुना जाता है, इसके बाद पूरी मार्जिन मनी के साथ स्टॉक्स को खरीद लिया जाता है, और फिर जैसे ही उस स्टॉक्स की थोड़ी सी कीमत बढ़ जाती हैं तो उसे सेल कर दिया जाता है। स्कैल्पिंग ट्रेडिंग आमतौर पर 1 मिनट से 25 मिनट के अंदर अंदर होती है।

4⃣ लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग क्या होती है

जब खरीद और बिक्री के बीच की अवधि कुछ महीनों से कुछ वर्षों तक होती है, तो इसे लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग कहा जाता है। कम टेंशन: और लंबे समय के ट्रेडिंग के दौरान मार्केट छोटे-मोटे मूव करने से कोई फर्क नहीं पड़ता है और लगातार मार्केट को देखने की कोई आवश्यकता नहीं है।

5⃣ स्विंग ट्रेडिंग क्या है।

स्विंग ट्रेडिंग, ट्रेंड ट्रेडिंग और डे ट्रेडिंग के बीच का तरीका है। कभी-कभी मार्केट की स्थिति सही होने से 2-3 हफ़्ते पहले स्विंग ट्रेड जारी रह सकता है। स्विंग ट्रेडर्स स्क्वेयरिंग ऑफ़ करने से पहले कम से कम एक रात पहले अपनी पोज़ीशन होल्ड करेंगे स्विंग ट्रेडर्स लाभ की क्षमता वाले स्टॉक की पहचान करने के लिए मूलभूत और तकनीकी विश्लेषण दोनों को एक साथ मिलाते हैं।

आमतौर पर, मूलभूत ट्रेडर्स स्विंग ट्रेडर्स होते हैं क्योंकि आमतौर पर कॉर्पोरेट न्यूज़ को मार्केट ट्रेंड को प्रभावित करने में कम से कम एक हफ़्ते का समय लगता है

ट्रेडिंग कैसे करें

ट्रेडिंग करना बहुत ही सिंपल कार्य है। ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट यानी डिमैट अकाउंट होना बहुत जरूरी है। क्योंकि इनके बिना आप ट्रेडिंग नहीं कर सकते, अगर आपके पास डीमेट है, तो अब आपको ट्रेडिंग अकाउंट की मदद से शेयर मार्केट से शेयर को कम दामों में खरीदना है, और उस शेयर की कीमत बढ़ जाने पर उसे ज्यादा दाम में बेच कर मुनाफा कमाना है इसी तरह हम ट्रेडिंग करते हैं।

NOTE :- ट्रेडिंग करने से पहले आपको स्टॉक मार्केट की नॉलेज लेनी है यानी कि मार्केट को सीखना है वरना स्टॉक मार्केट में आप पैसा कमाने की जगह पैसा गवाँ सकते हैं। क्योंकि शेयर मार्केट पूरी तरह से जोखिम भरा है यहां पर अगर आप सीख कर नहीं आओगे तो 100% आप फेल हो जाओगे और फिर मार्केट को गलत ठहरा दोगे इसलिए हमारी सलाह है कि आप मार्केट में बिना सीखें पैसे कमाने की बिल्कुल ना सोचे।

आपको स्टॉक मार्केट के बारे में एक एक चीज अच्छी तरीके से समझ नहीं है जैसे कि टेक्निकल एनालिसिस, फंडामेंटल एनालिसिस, बैलेंस शीट देखना, चार्ट को समझना, कंपनी के स्टेटमेंट को समझना और चार्ट को एक अंदरूनी तरीके से देखना जब तक आपको यह नहीं आएगा आप केवल तुक्के सें पैसे नहीं कमा सकते हैं।

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग कैसे करते हैं

आपको बता दें कि शेयर मार्केट में इन्वेस्टर Intraday, Scalping और Swing आदि Trading कर सकते है यह सब स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने के तरीके है जिनका उपयोग करके स्टॉक मार्केट में शेयर को खरीद व बेच कर प्रॉफिट कमाते है। इसके लिए निवेशको को एक ट्रेडिंग Technique को चुनना होता है जैसे की इंट्राडे, स्काल्पिंग और स्विंग ट्रेडिंग फिर इन ट्रेडिंग के नियमों का पालन करना होता है।

अगर निवेशक सभी नियमों का पालन करता है और Technique को Follow करता है, तो रोज स्टॉक मार्केट से प्रॉफिट ले सकता है, इन ट्रेडिंग की Technique का उपयोग करके। बस निवेशक पास एक Demat Account या Trading Account होना चाहिए जिनकी मदद से वह Stock Exchange में से शेयर को खरीद सके और बेच सके।

डिमैट अकाउंट क्या होता है

डियर पाठक डीमैट अकाउंट एक बैंक अकाउंट की तरह है, जिसमें आप शेयर सर्टिफिकेट और अन्य सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक फार्म में रख सकते हैं। डीमैट अकाउंट का मतलब डिमैटेरियलाइजेशन अकाउंट होता है। इसमें शेयर, बॉन्ड्स, गवर्नमेंट सिक्योरिटीज , म्यूचुअल फंड, इंश्योरेंस और ईटीएफ जैसे इन्वेस्टमेंट को रखने की प्रक्रिया आसान हो जाती है।

अगर आप भी डिमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं तो आप इस पोस्ट को पढ़ सकते हैं। डिमैट अकाउंट कैसे खोलें? How to open demat account

निष्कर्ष: Trading Meaning in Hindi

डियर पाठक ट्रेडिंग का सीधा सीधा मतलब है व्यापार करना कम भाव में खरीदना अधिक भाव में बेचना इसे ही ट्रेडिंग कहते हैं आशा करते हैं, Trading Meaning in Hindi आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और अगर आप स्टॉक मार्केट सीखना चाहते हैं तो स्टॉक पत्रिका को सब्सक्राइब करें। और इस लेख को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अवश्य शेयर करें

Leave a Comment

error: Content is protected !!