Delivery Trading Rules in Hindi | डिलीवरी ट्रेडिंग नियम

नमस्कार डियर पाठक आपको हमने पिछले लेख डिलीवरी ट्रेडिंग क्या होती है, में डिलीवरी ट्रेडिंग के बारे में बता दिया था अब आपको डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम (Delivery Trading Rules in Hindi) के बारे में बताएंगे क्योंकि अगर आप डिलीवरी ट्रेडिंग करना चाहते हैं, डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम को जानना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आपको रूल्स के बारे में पता होगा तो आप कहीं भी गलती नहीं करेंगे।

देखिए जब कोई इन्वेस्टर शेयर को होल्ड करने के उद्देश्य से शेयर मार्केट में निवेश की प्लानिंग करता है, तो उसको डिलीवरी ट्रेडिंग का ऑप्शन दिया जाता है। जैसा कि आपको पता है डिलीवरी ट्रेडिंग करने से पहले इन्वेस्टर को शेयर मार्केट अकाउंट यानि डिमैट अकाउंट ओपन करना पड़ता है, लेकिन हर कोई डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम की मूल बातें नहीं जानता है इसलिए हम आपको यहां पर पूरी लिस्ट देंगे जिससे आप समझ सकेंगे की डिलीवरी ट्रेडिंग के क्या रूल्स होते हैं।

P/E रेश्यो क्या होता है

लिक्विड लिक्विड स्टॉक क्या है

लायबिलिटीज क्या होती है

Delivery Trading Rules in Hindi

Delivery Trading Rules in India in Hindi – देखिए जब बात इंडिया में ट्रेडिंग की आती है, तो इक्विटी डिलीवरी सबसे बेसिक तरीकों में से एक है। क्योंकि इक्विटी इन्वेस्टरो को कुशलतापूर्वक ट्रेडिंग करने और इन्वेस्ट करने पर ज्यादा प्रॉफिट कमाने में हेल्प करता है।

जैसा कि हमने पिछले लेख में बताया कि जब तक इन्वेस्टर शेयर बेचना नहीं चाहते, तब तक वह शेयर्स को अपने डिमैट अकाउंट में होल्ड करके रख सकते हैं, अब यह अवधि कितनी भी लंबी हो सकती है। और ऐसे ही डिलीवरी ट्रेडिंग कहते हैं।

डियर पाठक डिलीवरी ट्रेड एग्जीक्यूट करने के लिए इन्वेस्टरो शेयर खरीदने के लिए पूरी राशि का भुगतान करना पड़ता है। क्योंकि डिलीवरी ट्रेडिंग में किसी प्रकार का कोई भी मार्जिन नहीं मिलता है

हां लेकिन इन्वेस्टर को मार्जिन के बदले शेयर की पूरी हिस्सेदारी मिल जाती है। चलिए आपको बताते हैं कि डिलीवरी ट्रेडिंग में किसी ट्रेड को कैसे एक्जिक्यूट क्या जाता है इसके लिए यहां पर कुछ बुनियादी और एडवांस डिलीवरी ट्रेडिंग रूल है जो हर ट्रेडर को पता होना चाहिए।

1⃣ इन्वेस्ट करने से पहले चेक करें।

डिलीवरी ट्रेडिंग का पहला और महत्वपूर्ण रोल यह है कि, इन्वेस्ट करने से पहले हमेशा विभिन्न सोर्स पर रिसर्च करनी चाहिए, हमेशा ऐसे बिजनेस में इन्वेस्ट करना सही है जो और रणनीति से काम कर रहे हैं। स्टॉक मार्केट में निवेश करने से पहले हर पहलू को अच्छी तरीके से परखना चाहिए और जांच करनी चाहिए। और आपको यह जानकारी होना भी आवश्यक है कि स्टॉक मार्केट में शेयर कब खरीदना चाहिए।

इसलिए इन्वेस्ट करने के लिए स्टॉक या फिर फर्म का फंडामेंटल एनालिसिस और टेक्निकल एनालिसिस बेहद आवश्यक है। और आज के दौर में तो इंटरनेट पर कई सारी वेबसाइट्स मौजूद है, जो कंपनियों का प्रॉपर्ली मूल्यांकन करने और समझने में निवेशक की सहायता कर सकती है।

किसी भी इन्वेस्टर को उस इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट को खरीदने की एडवाइज दी जाती है जिसका पिछले वर्षों में एक मजबूत और बेहतरीन रिकॉर्ड हो व जो कम प्रबंधन शुल्क प्रदान करता हो।

2⃣ गिरती और बढ़ती अर्थव्यवस्था से घबराए नहीं

देखिए डियर पाठक जब अर्थव्यवस्था बढ़ती है, तो निवेशक अधिक स्टॉक खरीद सकते हैं, और जब मार्केट में गिरावट स्टार्ट होती है, तो निवेशक को सलाह दी जाती है कि कम से कम स्टॉक बेंचे, लेकिन अगर लॉन्ग टर्म के लिए निवेश किया वह है तो आपको बता दें कि बार-बार ट्रेड करने से हमेशा बचना चाहिए।

क्योंकि हर बार ट्रेड को एग्जीक्यूट करने पर कमीशन चार्ज किया जाता है और आपको बता दें कि नए ट्रेडर्स कि ज्यादातर कमाई तो ट्रेड पर कमीशन भुगतान करने नहीं चली जाती है, हालांकि नए ट्रेडर्स ही नहीं पुराने ट्रेडर्स भी गलती करते हैं, क्योंकि उनको सही ध्यान नहीं होने के कारण ऐसा करते हैं।

साथ ही इन्वेस्टर अपने पोर्टफोलियो को बनाने पर भी काम करें और गिरती हुई अर्थव्यवस्था से बिल्कुल नहीं घबराए, क्योंकि यह भी ट्रेडर्स को शेयर खरीदने के अवसर देता है। इस अवसर से प्रॉफिट लेने के लिए निवेशक को हमेशा स्टॉक मार्केट में शेयर खरीदने और बेचने के नियमों को जानना चाहिए।

3⃣ निवेश करने के लिए कभी उदार या लोन नहीं ले

डियर पाठक निवेश करना अच्छी बात है और यह हमारी अर्थव्यवस्था के लिए भी बहुत अच्छी चीज है, लेकिन आप स्टॉक मार्केट में निवेश करने के लिए इतने उतावले नहीं हो कि आपने कुछ सीखा ही नहीं और लोन लेकर सीधा स्टॉक मार्केट में निवेश कर दिया कि यहां पर तो बहुत जल्दी अमीर बन जाते हैं। यह भी गलत है कि यहां पर अमीर नहीं मानते लेकिन उसके लिए आपको पहले मार्केट को समझना होगा और मार्केट को टाइम देना होगा।

आपको बता दें कि अगर आप स्टॉक मार्केट में निवेश करने का कोई प्लान बना रहे हैं, तो आपको बता देगी कभी भी किसी से उधार लेकर या बैंक से ऋण लेकर मार्केट में निवेश करने की बिल्कुल भी ना सोचे। क्योंकि स्टॉक मार्केट बिल्कुल अस्थिर हैं, और यह कब कौन सी करवट लेगा उसका पता नहीं चलता वहीं अगर आप इसमें कार्य का पैसा इन्वेस्ट करते हैं तो हो सकता है कि वह पैसे डूब जाए,

फिर आपके सामने एक और परेशानी खड़ी हो जाएगी और आप मार्केट पर बिल्कुल ध्यान नहीं लगा पाओगे आपके दिमाग में बस एक ही चीज चलेगी लॉस को कैसे कवर करें। अगर आप स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो केवल उतने ही पैसे इन्वेस्ट करें जो आप फिलहाल कमा रहे हैं उसका 5% और जब आप एक प्रोफेशनल ट्रेडर बन जाए कब आप अपना रिस्क खुद मैनेज करके चलेंगे। और आप तो मार्केट में निवेश करने के लिए किसी भी इमरजेंसी फंड का इस्तेमाल ना करें, और नहीं अपनी पूरी सेविंगस को मार्केट में लगाएं क्योंकि यह मार्केट जोखिमों से जुड़ा होता है।

4⃣ विविधता (Diversity)

डियर पाठक इसे Delivery Trading Rules in Hindi का सबसे बेहतरीन नियम माना जाता है, चलिए देखते हैं कि इसे बेहतरीन नियम क्यों कहा जाता है। देखिए किसी निवेशक को मूल रूप से अपने पोर्टफोलियो के शेयर में 10% से अधिक इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए।‌ इसलिए यह का एक बेहतरीन और अनिवार्य नियम बन गया।

उदाहरण के लिए – ‌ अगर आपके अकाउंट में ₹10000 हैं तो आपको केवल ₹1000 का ही इन्वेस्टमेंट करना चाहिए। कहने का मतलब आपको 100 पत्थर एक जगह ही नहीं मारने आपको इनको अलग-अलग जगह मारना है कहने का मतलब आप अपने रिस्क को अलग-अलग सेगमेंट में बांट दीजिए यानी आपको केवल एक सेगमेंट नहीं रिस्क नहीं लेना है। आप भिन्न-भिन्न सेक्टर में निवेश कर सकते हैं जैसे – मार्केट, कमोडिटी, हेज फंड और ऐसेट फंड, म्यूच्यूअल फंड आंधी जगह पर निवेश कर सकते हैं,

और आपको शेयर मार्केट के सेक्टर के बारे में तो पता ही होगा नहीं है तो आप हमारा यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं शेयर मार्केट में कितने सेक्टर होते हैं

क्योंकि अगर एक सेक्टर में नुकसान हुआ तो एक सेक्टर में अवश्य फायदा होगा। अगर हम मंदी के नजरिए से भी इसे देखे तो एक सेक्टर में अगर मंदी आई तो दूसरे में नहीं आएगी और आप इस तरह ट्रेडिंग में सुरक्षित रह सकते हैं।

5⃣ सावधान रहें लालच में ना पड़े

देखिए चाहे आप कोई सा भी सेक्टर ले लो उसने आपको रातों-रात रिजल्ट नहीं मिलेगा आपको अगर नौकरी लगनी है तो आपको पहले पढ़ाई को बहुत टाइम देना होगा ठीक उसी प्रकार अगर आप स्टॉक मार्केट में रातों-रात अमीर बनाना चाहते हैं, तो सावधान रहें यह मार्केट आपको कंगाल बना देगा। इसलिए स्टॉक मार्केट में पेसेंस यानी धैर्य रखना बहुत जरूरी है। इसलिए मार्केट में आप शुरू शुरू में पैसों पर फोकस ना करें, आप अपने लर्निंग को बढ़ाएं ताकि मार्केट आपको भर भर के पैसा दे सके।

भारतीय कंपनियों को सक्सेसफुल होने में काफी वर्ष लगे हैं। इसलिए हमेशा अच्छी क्वालिटी वाले शेयरों में निवेश करना चाहिए, क्योंकि यह समय के साथ अवश्य बढ़ेंगे और निवेशकों को अच्छा रिटर्न भी देंगे। आप चाहे कोई सभी सेक्टर में हो सावधानी बहुत महत्वपूर्ण है ठीक उसी प्रकार आपको ट्रेडिंग कर रहे हो तो उसमें भी सावधानी और सतर्कता बेहद महत्वपूर्ण है, और यही सावधानी आपको हर कदम पर सफलता की ओर बढ़ाएगी।

6⃣ जोखिम इन्वेस्टमेंट का महत्वपूर्ण हिस्सा है

देखिए आप गर्म के डर से चाय पीना तो नहीं छोड़ दोगे या फिर दुर्घटना के डर से गाड़ी चलाना तो नहीं छोड़ दोगे उसी प्रकार आप स्टॉक मार्केट में एक बार जोखिम ले लिया तो डर गए यह ध्यान रखें कि जोखिम इन्वेस्टमेंट का महत्वपूर्ण है, यह कभी-कभी बेहतरीन लोगों के हिस्से में भी आ जाता है।

आपको इससे डरना नहीं है बल्कि यह ध्यान लगाना है कि आखिर यह किस प्रकार हुआ और आपने कौन सी गलती की जिसकी आपको फीस चुकानी पड़ी। मार्केट में आप जैसे जैसे सीखते जाएंगे और आगे बढ़ते जाएंगे वैसे वैसे मार्केट के रिस्क कम होते जाएंगे। इसलिए आप अपनी लर्निंग पर फोकस करें और मार्केट को जितना हो सके उतना समय दें चाहे आपको कुछ भी समझ में ना आए फिर भी मार्केट को वॉच करते रहे हैं।

क्योंकि आप लगातार किसी चीज पर फोकस कर रहे हो तो निश्चित है वह आपको समझ में अवश्य आएगी।

7⃣ भावनाओं में ना बहे

कई लोग स्टॉक मार्केट को बिल्कुल हल्के में लेते हैं, और वह अपने अंदाजे से काम लेते हैं यहां पर अंदाजे काम नहीं कहते यहां पर काम करता है आपकी नॉलेज आपका धैर्य, फंडामेंटल एनालिसिस, टेक्निकल एनालिसिस बेहतरीन माइंड सेट, रिस्क मैनेजमेंट और आदि कई चीजें।

आपको बताते हैं कि लोग भावनाओं में कैसे बहते हैं। जैसे किसी फ्रेंड रिलेटिव्स या फिर आजकल टेलीग्राम चैनल बहुत ज्यादा चल रहा है तो उस पर किसी ने बोल दिया कि आप यह स्टॉक ले लो रातो रात अमीर बन जाओगे और अब आपको भी लगने लग गया कि यह स्टॉक ऊपर जाएगा और आपने खरीद लिया बिना रिसर्च किए,

और वह कल ही डाउन में चला गया तो आप का मनोबल यहीं से टूट जाएगा भले ही मार्केट जोखिम देता है लेकिन हमेशा अंदाजे से नहीं चलना चाहिए बल्कि खुद रिसर्च करनी चाहिए और फिर ही स्टॉक खरीदना चाहिए अगर फिर भी कोई गलती हो जाए तो उस गलती को सुधारनि चाहिए ना कि बार-बार वही गलती करे।

निष्कर्ष : Delivery Trading Rules in Hindi

डियर पाठक आप स्टॉक मार्केट में जब भी आए तो एक बेहतरीन माइंडसेट के साथ आएं, रातो रात अमीर बनने नहीं आए वरना फिर मार्केट के बारे में कहोगे कि मार्केट तो जुआ है। आज का आर्टिकल Delivery Trading Rules in Hindi भगवती कमाल के नॉलेज के साथ था। आशा करते हैं आपको यह लेख Delivery Trading Rules in Hindi पसंद आया होगा तो इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अवश्य शेयर करें, स्टॉक मार्केट की नई-नई जानकारी के लिए आप हमारे सोशल मीडिया पेज से जुड़े।

error: Content is protected !!