Moving Average in Hindi | मूविंग ऐवरेज क्या होता है?

Moving Average in Hindi

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख में हम जानेंगे कि मूविंग एवरेज क्या होता है? Moving Average in Hindi जैसा कि आपको पता है शेयर मार्केट में स्टॉक की कीमत और ट्रेंड की जानकारी के लिए तरह-तरह के इंडिकेटर मौजूद हैं, ठीक उसी प्रकार मूविंग एवरेज भी मार्केट के उतार-चढ़ाव को फिल्टर करने वाला और प्राइज मूवमेंट को सुचारू करने का एक आसान और बढ़िया इंडिकेटर है।

चलिए आगे बढ़ते हैं। और जानते हैं Moving Average इंडिकेटर के बारे में

डेरिवेटिव ट्रेडिंग क्या है

समझ लो शेयर मार्केट का गणित

मूविंग एवरेज क्या है। Moving Average in Hindi

Moving Average in Hindi – स्टॉक मार्केट में यह एक भरोसेमंद टेक्निकल इंडिकेटर है जिसका इस्तेमाल ट्रेडर्स और इन्वेस्टर फाइनैंशल ऐसेट्स की कीमतों मे होने वाले डेली उतार-चढ़ाव के आधार पर उसमें बन रह ट्रेड को समझने का प्रयास करते हैं, और ट्रेड की दिशा का अनुमान लगाने के लिए इसका उपयोग करते हैं। सिंपल मूविंग एवरेज किसी ऐसेट की ऐवरेज वैल्यू बताता है।

फेस वैल्यू क्या है

जो 15, 50, 100 या 200 दिनों की हो सकती है। ये ऐसेट्स शेयर, कमोडिटी या इंडेक्स कुछ भी हो सकते हैं। जैसे कि मान लीजिए 50 डे-मूविंग ऐवरेज पिछले 50 दिनों की क्लोजिंग प्राइस को जोड़ने के बाद उसमें 50 का भाग देकर निकाला जाता है, कुल मिलाकर मूविंग एवरेज किसी भी शेयर या इंडेक्स के पिछले क्लोजिंग डाटा बिंदुओं का योग करता है।

यह वर्तमान टाइम में ट्रेडर्स और निवेशकों के बीच में बहुत फेमस है इसका कारण यह है कि यह वर्तमान ट्रेड की दिशा निर्धारित करने में हेल्प करता है। और आपको बता दें कि मूविंग ऐवरेज इंडिकेटर इन्वेस्टर को किसी स्टॉक या इंडेक्स के पिछले प्राइस मूवमेंट का एनालिसिस करके सपोर्ट और रजिस्टेंस के लेवल की जांच करने में इन्वेस्टर को सक्षम बनाता है।

डियर पाठक यह ट्रेड में चेंजस को चेक करने का एक बढ़िया तरीका है, जोकि किसी शेयर की पिछली प्राइज मूवमेंट को डिटेक्ट करने में सक्षम है। मूविंग एवरेज खास तौर पर एक लैंगिंग इंडिकेटर है, जो कि टेक्निकल एनालिसिस करने का बेहतरीन टूल है।

मूविंग एवरेज के प्रकार

मूविंग एवरेज‌ के दो प्रकार होते है–

  1. सिंपल मूविंग एवरेज (SMA)
  2. एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (EMA)

डियर वैसे तो यह दोनों ही मूविंग एवरेज निवेशकों को मार्केट के ट्रेड प्राइस की इंफॉर्मेशन देते हैं, लेकिन अगर किसी इन्वेस्टर को आधुनिक और नवीनतम वैल्यू और ट्रेड के जानकारी प्राप्त करनी है, तो उसके लिए EMA बेस्ट ऑप्शन है।

1, सिंपल मूविंग एवरेज (SMA)

सिंपल मूविंग एवरेज किसी ऐसेट की वैल्यू को बताता है, यह ऐसेट्स कुछ भी हो सकते हैं, जैसे – कमोडिटी, शेयर, इंडेक्स आदि सिंपल मूविंग एवरेज हाल ही के डाटा बिंदुओं को सेट करके और फिर कुल योग को टाइम टाइम ड्यूरेशन यानी दिनों की संख्या से विभाजित करके प्राप्त किया जा सकता है,

इस सिंपल मूविंग ऐवरेज इंडिकेटर का प्रयोग ट्रेडर्स को शेयर मार्केट में प्रवेश करने या फिर एग्जिट करने के लिए सिग्नल देने का कार्य करता है। यह एक प्रकार का लैंगिंग इंडिकेटर, क्योंकि यह निश्चित अवधि के लिए पिछले प्राइस डाटा पर बेस्ड होता है।जिससे विभिन्न प्रकार की प्राइस जैसे हाई, लॉ, ऑपन और क्लॉज के लिए गणना की जा सकती है।

उदाहरण के लिए, कोई इन्वेस्टर पिछले 7 दिनों की क्लोजिंग प्राइस लेकर मार्केट में सिंपल मूविंग एवरेज की काउंटिंग करना चाहता है। पिछले 7 दिनों के क्लोजिंग प्राइस का डाटा कुछ इस प्रकार है–

  1. ₹20
  2. ₹22
  3. ₹16
  4. ₹19
  5. ₹25
  6. ₹27
  7. ₹21

20+22+16+19+25+27+21 / नंबर ऑफ डे 7= ₹21.42 सिंपल मूविंग एवरेज का इस्तेमाल कर ट्रेलर ट्रेडिंग निर्णय ले सकता है अगर मार्केट अपने पिछले डेटाबेस के हिसाब से कम प्राइस पर चल रहा है तो वह डाउन ट्रेड का सिग्नल देता है और अगर अधिक चल रहा है तो अप ट्रेंड का सिग्नल देता है।

जान लो शेयर मार्केट के नियम बाद में पछताना न पड़े

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज EMA

डियर पाठक एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज एक अन्य प्रकार का मूविंग एवरेज है। दो सबसे हाल ही के प्राइस बिंदुओं को ज्यादा तवज्जो देता है, आपको बता दें कि इस सिंपल मूविंग एवरेज की तुलना में एक्स्पोनेंशियल मूविंग एवरेज वर्तमान के प्राइस परिवर्तन के प्रति अधिक पर क्रियाशील होता है, क्योंकि यह दिए गए टाइम ड्यूरेशन में तो विशिष्ट कीमतों में परिवर्तनों के लिए समान भार लागू करता है। और यह ट्रेडर्स को प्राइस परिवर्तनों के लिए जल्दी रिस्पॉन्स करता है।

इसका सूत्र इस प्रकार है,‌ वर्तमान ईएमए = [ क्लॉजिंग प्राइस- ईएमए ( पिछला समय अवधि ) ] x गुणक + ईएमए ( पिछला समय अवधि )

लेकिन अब बात आती है कि आखिर मूविंग एवरेज का उपयोग कैसे करते हैं तो चलिए और आगे बढ़ते हैं जानते हैं कि मूविंग एवरेज का उपयोग कैसे करें

चार्ट को घोट कर पी जाए कभी लॉस नहीं होगा

मूविंग ऐवरेज का उपयोग कैसे करें?

शेयर मार्केट में कई सारे ट्रेडर स्टॉक खरीदने के लिए मूविंग एवरेज इंडिकेटर का उपयोग करते हैं, लेकिन आपको बता देगी कोई भी स्टॉक खरीदने से पहले इन्वेस्टर को स्टॉक प्राइस ट्रेंड के बारे में जान लेना चाहिए क्योंकि वह तभी ही प्रॉफिट की तरफ रुख कर सकता है।

आपको बता दें कि आप अपने मार्केट चार्ट पर सिंगल मूविंग एवरेज इंडिकेटर को प्लॉट करके ऐसा कर सकते हैं। आप देख सकते हैं, कि किसी खास स्टॉक की प्राइस मूविंग एवरेज से अगर ऊपर जाती हैं, तो इसका सीधा मतलब यह है कि स्टॉक अभी अपट्रेंड में है

वहीं अगर स्टॉक की मूविंग प्राइस एवरेज रेखा से नीचे हैं तो इसका सीधा मतलब यह है कि स्टॉक डाउनट्रेंड में। ठीक इसी प्रकार ट्रेडर एक मूविंग एवरेज प्लॉट करने की बजाए एक साथ कई मूविंग एवरेज प्लॉट कर सकता है, जिससे उसे स्टॉक के ट्रेंड को समझने में आसानी हो इससे यह फायदा होता है, कि मूविंग ग्राफ को देखकर ट्रेडर पता लगा सकता है, कि स्टॉक ऊपर की ओर जाएगा नीचे की ओर।

क्यों करना चाहिए मूविंग ऐवरेज का उपयोग

अब आपके दिमाग में भी सवाल आ रहा होगा कि आखिर हम मूविंग एवरेज का उपयोग क्यों करें? तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मूविंग एवरेज टेक्निकल एनालिसिस का एक पार्ट है, और इससे हर ट्रेडर को समझना चाहिए क्योंकि बहुत से स्टॉक मार्केट विशेषज्ञ खरीद और बिक्री का डिसीजन लेने के लिए मूविंग एवरेज का उपयोग करते हैं।

मूविंग एवरेज लगभग सभी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म एप्लीकेशन पर मिल जाएगा क्योंकि सभी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म चार्ट का ऑप्शन देते हैं और वहां पर आप इस मूविंग एवरेज इंडिकेटर का प्रयोग कर सकते हैं, इसको इस्तेमाल करने का एक प्रमुख कारण है कि यह ट्रेडर्स स्टॉक का ट्रेड समझाने में काफी मदद करता है, और आपको बता दें कि निवेशक भी मूविंग एवरेज का इस्तेमाल लॉन्ग टर्म ट्रेड को पकड़ने के लिए करते हैं

इंट्राडे ट्रेडिंग में मूविंग एवरेज का प्रयोग

आपको बता दें कि इंट्राडे ट्रेडिंग में मूविंग एवरेज का प्रयोग करने के लिए आपको 5 दिन का मूविंग एवरेज या फिर 10 दिन का मूविंग एवरेज चुनना चाहिए। हालांकि यह पूरी तरह ट्रेडर पर निर्भर करता है कि वह कितने दिन का मूविंग एवरेज लगाना चाहता है। लेकिन यहां पर निवेशकों को एक बात याद रखनी चाहिए कि वह अगर इंट्राडे ट्रेडिंग कर रहे हैं तो कम दिन का मूविंग एवरेज उपयोग करें।

और अगर यदि एक निवेशक स्विंग ट्रेडिंग, पोजीशनल ट्रेडिंग, या इन्वेस्टिंग पर जाए तो वह अपनी इन्वेस्टिंग के हिसाब से मूविंग एवरेज के दिनों की संख्या बढ़ा सकते हैं।

क्रॉसओवर की रणनीतियाँ

जब एक कम समय में मूविंग एवरेज (MA) एक अधिक समय के लिए मूविंग एवरेज (MA) से ऊपर पार (जैसे 100 दिन या 200 दिन मूविंग एवरेज (MA) कहते हैं), यह एक संकेत है कि शेयर मे तेज़ी है और कीमतों में वृद्धि पर हैं। कम समय  MA लंबी अवधि के MAS नीचे पार जब, यह एक डाउनट्रेंड का संकेत देता है।

निष्कर्ष: Moving Average in Hindi

डियर पाठक आपको बता दें कि मूविंग ऐवरेज बहुत ही पॉपुलर इंडिकेटर है। लेकिन आपको बता दें कि कोई भी इंडिकेटर चाहे कितना ही पॉपुलर क्यों ना हो वह हमेशा सटीक नहीं होता है यह किसी भी इंडिकेटर का इस्तेमाल करने से पहले एक बार बैक टेस्ट अवश्य कर ले।

किसी विशेष स्टॉक का मूविंग एवरेज एनालिसिस करके ट्रेडर अपने प्रॉफिट को बुक करने के लिए ट्रेंड या मूवमेंट को देख सकता है। फिर भी मूविंग एवरेज इंडिकेटर का उपयोग करने से पहले मूविंग एवरेज के सभी जोखिमों को परख लेना चाहिए।

आज के आर्टिकल Moving Average in Hindi में हमने मूविंग एवरेज के बारे में समझा, और आशा करते हैं कि आज का आर्टिकल Moving Average in Hindi आपको पसंद आया होगा इसलिए इसको अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अवश्य शेयर करें

error: Content is protected !!