What is The Indirect Tax | इनडायरेक्ट टैक्स क्या होता है

What is The Indirect Tax

नमस्कार डियर पाठक आज की इस लेख में हम जानेंगे कि इनडायरेक्ट टैक्स क्या होता है। (What is The Indirect Tax) इकोनामी की जानकारी आपको होना बहुत जरूरी है और टैक्स के बारे में जानकारी होना और भी जरूरी है। क्योंकि टैक्स हर जगह यानी की हर बिजनेस खरीददारी या आप कुछ भी छोटा-मोटा प्रोडक्ट खरीदते हैं।

उसका भी आपको टैक्स देना पड़ता है, हर यूजर टैक्स देता है चाहे वह अमीर है या गरीब अब उसी प्रकार का यह इनडायरेक्ट टैक्स है, जिसके बारे में हम जानेंगे इस लेख में तो आप यह सामान्य जानकारी अवश्य ले और इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

स्टॉक मार्केट क्या है

शेयर कैसे खरीदे और बेंचे

स्टॉक मार्केट में शेयर खरीदने का तरीका

What is Indirect Tax | क्या होता है इनडायरेक्ट टैक्स

What is Indirect Tax – इनडायरेक्ट टैक्स (Indirect Tax) यानी कि अप्रत्यक्ष कर डियर पाठक इनडायरेक्ट टैक्स सप्लाई चैन यानी कि आमतौर पर कोई उत्पादक रिटेलर में से किसी एक एंटीटी के द्वारा संग्रहित किया जाता है। और फिर इस कर को सरकार को भुगतान किया जाता है।

लेकिन वस्तु या सेवा की खरीद कीमत के हिस्से के रूप में इसे ग्राहक को यानी की उपभोक्ताओं पर डाल दिया जाता है। और आखिरकार उपभोक्ता ही उत्पाद के लिए अधिक भुगतान के जरिए टैक्स देता है।

इनडायरेक्ट टैक्स को ऐसे समझिए

डायरेक्ट टैक्स की व्याख्या डायरेक्ट टैक्स के साथ कंपैरिजन करने के जरिए की जाती है। डियर पाठक इनडायरेक्ट टैक्स किसी इंडिविजुअल या एंटीटी पर टैक्सेशन के रूप में परिभाषित की जा सकती है। इनडायरेक्ट टैक्स के उदाहरण में जैसे ईंधन, शराब या अल्कोहल, सिगरेट आदि जैसे उत्पाद पर शुल्क सभी इनडायरेक्ट टैक्स के उदाहरण ही है।

वही डायरेक्ट टैक्स का उदाहरण इनकम टैक्स, क्योंकि आज अर्जित करने वाला व्यक्ति तत्काल टैक्स का भुगतान करता है। और किसी नेशनल पार्क की एडमिशन फीस डायरेक्ट टैक्सेशन का एक अन्य स्पष्ट एग्जांपल है। कुछ इनडायरेक्ट टैक्स को उपभोग टैक्स के रूप में संदर्भित किया जाता है जैसे की वैल्यू ऐडेड टैक्स (वेैट)

इनडायरेक्ट टैक्स भुगतान कौन करता है

इनडायरेक्ट टैक्स रेवेन्यू कलेक्ट करने के लिए सरकार द्वारा लगाया जाता है। और मूल रुप से यह फिक्स होते हैं, जो टैक्सपेयर्स पर समान रूप से लगाया जाता है। भले ही व्यक्ति की आमदनी कितनी भी हो चाहे वह गरीब हो या फिर अमीर हो सबको इसे भुगतान करना पड़ता है। लेकिन कई लोग इसे रिग्रेसिव टैक्स मानते हैं, क्योंकि यह कम आय वाले वर्ग के लिए एक भारी बोझ के समान होता है। क्योंकि उन्हें भी टैक्स की मात्रा उतनी ही पे करनी पड़ती है जितनी अमीर आदमी करता है।

उदाहरण के लिए किसी बाहर के देश से आने वाले मोबाइल पर आयात शुल्क एक समान ही लगेगा फिर चाह सामने मोबाइल खरीदने वाला व्यक्ति अमीर हो या गरीब उसकी कमाई ज्यादा हो या कम, कहने का मतलब यह हुआ कि आदमी चाहे एक करोड़ कमाने वाला हो या ₹10000 कमाने वाला हूं उसको भी उतना ही शुल्क भुगतान करना पड़ेगा जितना 1 करोड रुपए कमाने वाले व्यक्ति को करना पड़ता है।

निष्कर्ष : What is The Indirect Tax

आपको बता दें कि इनडायरेक्ट टैक्स देश में रहने वाले हर नागरिक को चुकाना पड़ता है फिर चाहे वह अमीर हो या गरीब और इसका पता कई लोगों को आज तक नहीं है। क्योंकि हमें लगता है कि टैक्स तो सिर्फ अमीर लोग देते हैं हां यह सही है डायरेक्ट टैक्स देते हैं। लेकिन गरीब लोगों से भी टैक्स लिया जाता है।

आशा करते हैं आज का आर्टिकल What is The Indirect Tax या इनडायरेक्ट टैक्स क्या होता है आपको समझ में आया होगा ऐसे ही नॉलेजेबल जानकारी पाने के लिए आप स्टॉक पत्रिका वेबसाइट को सब्सक्राइब कीजिए

error: Content is protected !!