FPO क्या है? जानिए शेयर मार्केट में FPO क्या होता है

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख में जानेंगे की FPO क्या है? और स्टॉक मार्केट में कंपनियां FPO क्यों लाती है? FPO से कंपनी को क्या फायदा होता है साथ ही क्या इन्वेस्टरो को एफपीओ में निवेश करने पर क्या फायदा होगा।

अगर आप स्टॉक मार्केट में हो या आना चाहते हो तो आपको ऐसी बेसिक जानकारी होना अति आवश्यक है और भी बेसिक जानकारी के लिए आप स्टॉक पत्रिका के होम पेज पर जाकर पढ़ सकते हो चलिए जानते हैं कि FPO क्या है?

IPO क्या है। और इसमें पैसा कैसे लगाएं

ROE क्या है जानिए एनालिसिस का बेस्ट तरीका

FPO क्या है? What is FPO in Stock Market

FPO क्या होता है :- डियर पाठक FPO के जरिए कंपनियां अपना फॉलो ऑन पब्लिक (Follow on Public offer) ऑफर जारी करती है, मतलब जो कंपनियां पहले ही स्टॉक मार्केट में लिस्टेड है, वह इन्वेस्टरो के लिए नए स्टॉक्स ऑफर करती हैं। यह स्टॉक मार्केट में मौजूद शेयरों से डिफरेंट होते हैं। अधिकतर यह शेयर प्रमोटर्स ही जारी करते हैं, कहने का मतलब अपने हिस्से के शेयरों को मार्केट में निवेशकों के लिए उतारते हैं, आपको बता दें कि FPO का इस्तेमाल कंपनी के इक्विटी बेस को डायवर्सिफाई करने के लिए होता है।

एक बार सीख जाइए शेयर मार्केट का गणित लाखों कमाओगे

कंपनियां क्यों लाती हैं FPO?

जैसा कि आपको पता है कंपनी बाजार में शेयर उतारने से पहले IPO लॉन्च करती है। लेकिन एक बार लिस्ट होने के बाद अगर नए शेयर जारी करने हो तो उस सिचुएशन में कंपनी‌ FPO का इस्तेमाल करती है। कंपनी नए शेयर पूंजी जुटाने (Capital Raising) के लिए या फिर अपने कर्जे का भुगतान करने के लिए करती हैं, इसीलिए कंपनी नए शेयर के जरिए मार्केट से फंड्स उठाती है और फिर उसका इस्तेमाल अपने कार्य के लिए करती है।

समझ लो क्या होता है बीयर और बुल मार्केट

कितने प्रकार के होते हैं FPO

डियर पाठक दो प्रकार के एफपीओ हैं

1, Week Offer (कमजोर पेशकश) :- एक कमजोर FPO तब होता है जब कोई कंपनी अधिक पूंजी एकत्रित करने के लिए अधिक स्टॉक्स जारी करना चाहती है। और इसका इस्तेमाल ऋण का भुगतान करने के लिए किया जाता है। हालांकि, एक कमजोर FPO के केस में, कंपनी की वैल्यू अपरिवर्तित रहती है, जिसके कारण कंपनी के प्रति-शेयर आय में कमी आती है।

2, Non-Dilutive Offer (गैर-कमजोर पेशकश) :- इस केस में, कंपनी के फाउंडर या बड़े शेरहोल्डर्स पब्लिक के लिए कुछ शेयर जारी करते हैं, और हां इससे पैसा शेयरों को ऑफर करने वाले व्यक्ति के पास जाता है, न कि कंपनी के पास। इसी कारण, कंपनी की प्रति शेयर इनकम ए प्रभावित रहती है।

IPO से कैसे अलग होता है FPO? FPO different from IPO?

डियर पाठक कंपनियां अपने विस्तार के लिए IPO और FPO का इस्तेमाल करती है, बिजनेस को बढ़ाने के लिए कंपनियों को फंड की जरूरत पड़ती है, इसीलिए कंपनियां IPO & FPO का सहारा लेती है। कैशफ्लो की जरूरतों को पूरा करने के लिए या फिर अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए इस फंड का यूज करती है।

नयी कैपिटल जुटाने के लिए कंपनियों के पास विभिन्न प्रकार के ऑप्शन होते हैं, जैसे – कंपनी बाजार से कर्जा ले सकती है, निवेशको से कर्ज ले सकती है, इक्विटी के जरिए फंड जुटा सकती है, और हाथी इक्विटी में फंडरेजिंग के लिए कंपनी अपने शेयर्स को बेच सकती है ।

IPO और FPO अलग कैसे हैं –

IPO – के जरिए कंपनियां पहली बार मार्केट में अपने शेयर्स लिस्टेड करवाती है। इसीलिए आईपीओ को इनिशियल पब्लिक ऑफर (Initial Public Offer) कहते हैं। वही, FPO में अतिरिक्त शेयर्स को मार्केट में उतारा जाता है। IPO में शेयर की बिक्री के लिए रेट फिक्स होता है, जिसे प्राइस बैंड कहां जाता है।

और आपको बता दें कि कंपनी के शेयर प्राइस बैंड लीड बैंकर्स तय करते हैं। और वही हम FPO को देखें तो इसमें शेयरों का प्राइस बैंड बाजार में मौजूद शेयरों की कीमत से कम रखा जाता है।‌ ओवर इसको स्टॉक्स की संख्या के हिसाब से तय किया जाता है, और हां आमतौर पर कंपनी मौजूदा बाजार कीमत से कम प्राइज पर इसे ऑफर करती है

कैसे काम करता है FPO? How to work FPO?

अगर हम FPO को सरल भाषा में समझे तो यह कंपनी के मौजूदा शेयरों की संख्या के अलावा शेयर होते हैं। और आपको बता दें कि इसका फायदा कंपनियां एक ऑफर डॉक्यूमेंट के जरिए भी ले सकती हैं। FPO को IPO के जैसे नहीं समझना चाहिए क्योंकि यह पूरी तरह डिफरेंट होता है, जैसा कि आपने ऊपर पढा है।

निष्कर्ष, FPO क्या है?

डियर पाठक किसी भी प्रकार के निवेश की बारीकियों, उसके फायदे, नुकसान और लिमिटेशन को पूरी तरह से समझना थोड़ा चैलेंजिंग होता है। लेकिन बिना रिसर्च किए निवेश करना एक प्रोफेशनल निवेशक की पहचान नहीं होती है, ‌ यदि आप किसी FPO में इन्वेस्ट करना चाहते हैं। लेकिन आप उसके बारे में अनजान है, तो आप इसके मार्गदर्शन के लिए ब्रोकर पर भरोसा कर सकते हैं, और उन से लगातार संपर्क बनाए रखें ताकि आप अपने फाइनेंसियल फ्यूचर को बिल्ड कर सके।

तो हां जी आज के इस लेख FPO क्या है? में हमने FPO के बारे में जाना। कि कैसे कंपनियां फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर जारी करती हैं और कैसे एफपीओ लेकर आती है आशा करते हैं आज का आर्टिकल बेहद नॉलेजेबल लगा होगा ऐसे ही जानकारी पढ़ने के लिए नोटिफिकेशन को अलाव करें

error: Content is protected !!