फिक्स्ड डिपॉजिट क्या है | FD Kya Hai (Fixed Deposit)

FD Kya Hai

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख में हम जानेंगे कि FD Kya Hai (फिक्स्ड डिपॉजिट क्या है) आपने अक्सर जब भी निवेश के बारे में सुना होगा तो अधिकतर लोग बोलते हैं कि आप फिक्स डिपाजिट में पैसा डाल दो कोई रिस्क नहीं है। यानी कि एफडी करा दो,

और अधिकतर लोग अपने पैसे को एफडी में डालना ही पसंद करते हैं क्योंकि यहां पर रिस्क कम होता है और ब्याज निश्चित दर पर मिलता है। इसलिए आपके दिमाग में भी यह सवाल आया होगा कि आखिर FD क्या होती है, FD के क्या फायदे हैं, और अपनी कैसे कर सकते हैं। अगर आप भी अपने पैसों के साथ कोई रिस्क नहीं लेना चाहते और एफडी कराना चाहते हैं तो आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ के सभी जानकारी हासिल कीजिए।

शेयर मार्केट में कैसे निवेश करें ऑनलाइन

कमोडिटी ट्रेडिंग क्या है

Fixed Deposit Kya Hai (FD kya hai)

फिक्स्ड डिपॉजिट – FD बैंक और NBFC यानी नॉन – बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां के द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक साधन है, जिसके माध्यम से निवेशको को एक निश्चित ब्याज दर पर बिल्कुल सुरक्षित रूप से एक निर्धारित डिपॉजिट राशि को बढ़ा सकते हैं। फिक्स डिपॉजिट एक सेफ इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है, फिक्स्ड डिपॉजिट निरंतर ब्याज दरों की गारंटी देता है।

और डियर पाठक सीनियर सिटीजन के लिए विशेष ब्याज दरें होती हैं और कई ब्याज भुगतान ऑप्शन प्रोवाइड किए जाते हैं, और साथ ही इनकम टैक्स कटौती की सुविधा और इसमें मार्केट संबंधी कोई भी रिस्क नहीं होता है।

FD कभी भी ब्याज दर के उतार-चढ़ाव से प्रभावित नहीं होती है और साथ ही इसमें लॉक इन अवधि के बाद मैच्योरिटी पर निवेशकों को गारंटीड रिटर्न मिलते हैं। एफडी निवेशक आवधिक आधार पर या मैच्योरिटी पर अपना ब्याज प्राप्त करने का विकल्प चुन सकते हैं। लेकिन यहां पर एक बात है निवेशक आमतौर पर एफडी में पैसा मैच्योरिटी से पहले नहीं निकाल सकते हैं, हां लेकिन एक ऑप्शन है निवेशक कुछ पेनाल्टी चार्ज का भुगतान करने के बाद इसे तोड़ सकते हैं।

Fixed Deposit (FD) की विशेषताएं और फायदे

एफडी की विशेषताएं और फायदे

  1. यहां पर यह सुनिश्चित है कि रिटर्न फिक्स्ड है और एफडी पर मार्केट के उतार-चढ़ाव का कोई प्रभाव नहीं होता है।
  2. FD में मूलधन का नुकसान और रिस्क लगभग ना के बराबर है।
  3. NBFC द्वारा प्रदान की जाने वाली FD की ब्याज दरें बैंकों की तुलना में बहुत अधिक है।
  4. FD को आसानी से और बिल्कुल सिंपल तरीके से रिन्यू किया जा सकता है, और निवेशक अपने डिपॉजिट को रिन्यू करने पर अतिरिक्त दर का लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं।
  5. FD डिपॉजिट पूंजी पर 75% तक लॉन भी लिया जा सकता है।
  6. डियर पाठक आपको बता दें कि आयकर अधिनियम 1961 के अनुसार ब्याज आई पर स्रोत पर टैक्स काटा जाता है, अगर निवेशक की कुल आय टैक्स योग्य नहीं है तो वह फार्म 15g और सीनियर सिटीजन के लिए फॉर्म 15h संबित करके टीडीएच से बच सकते हैं।
  7. साथ ही निवेशक अपने मासिक खर्चों को मैनेज करने के लिए आवधिक ब्याज भुगतान का ऑप्शन भी चुन सकते हैं, और सीनियर सिटीजन को अधिकतर मामलों में उच्च एफडी ब्याज दरें मिलती है।

क्या ऑनलाइन एफडी की जा सकती है।

जी हां बिल्कुल आप भी ऑनलाइन एफडी में इन्वेस्ट कर सकते हैं इसके लिए मार्केट में कई सारी कंपनियां मौजूद है, हां हालांकि आपको रिसर्च करके देखना है कि कौन सी कंपनी ग्राहकों को अच्छा ब्याज देती है और किस कंपनी पर भरोसा किया जा सकता है, क्योंकि हमने मार्केट में कई कंपनियों को गोते खाते हुए देखा है हम नाम नहीं लेना चाहेंगे लेकिन पुराने क्रिकेटरों की जर्सी पर आपको वह नाम दिख जाएगा इसलिए हमारा कहने का मतलब है कि आप ऑनलाइन या ऑफलाइन जहां भी इन्वेस्ट करें सोच समझ कर करें।

ऑनलाइन एफडी के विकल्प

इसके लिए अच्छा विकल्प है बजाज फाइनेंस जो एफडी पर अच्छा खासा ब्याज प्रोवाइड करवाता है, और यहां पर आपको इन्वेस्ट करने के लिए केवल कुछ ही बुनियादी चीजों की जरूरत होती है जैसे मोबाइल नंबर से लॉगिन करने के लिए आपको ओटीपी डालना होगा,

वहीं अगर आप बजाज फाइनेंस के करंट कस्टमर है तो आप अपना विवरण पता डालकर वेरीफाई करें और इसमें नॉमिनी का विवरण दर्ज करें अगर आप नए कस्टमर है, तो पैन कार्ड या आधार कार्ड जैसे वेरीफाइड डॉक्यूमेंट अपलोड करके अपनी केवाईसी कंप्लीट कर सकते हैं।

बैंक का अकाउंट की डिटेल के साथ डिपॉजिट पूंजी, और अवधी और ब्याज भुगतान का प्रकार दर्ज करें, अब आप नेट बैंकिंग या यूपीआई के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प चुने और आपको बता दें कि एक लाख से अधिक निवेश के लिए केवल नेट बैंकिंग का विकल्प ही अवेलेबल है। और इस प्रकार भुगतान होने के बाद आपका डिपॉजिट बुक हो जाएगा और आपको 15 मिनट के अंदर अंदर ईमेल और एसएमएस के माध्यम से बिल प्राप्त हो जाएगा। अब ठीक उसी प्रकार आप जो बैंक अच्छा ब्याज देती है और ग्राहकों का ख्याल रखती है आप उसमें भी निवेश कर सकते हैं,

जहां पर आपका बैंक का अकाउंट है आप उसी बैंक में भी एफडी करवा सकते हैं, वहां पर आप शाखा प्रबंधन से संपर्क कर सकते हैं और आपको ज्यादा डॉक्यूमेंटेशन या किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी लेकिन हो सकता है थोड़ा ब्याज कम मिले

निष्कर्ष : FD Kya Hai

डियर पाठक एफडी कम क्या बिल्कुल नहीं जोखिम वाला साधन है, जहां पर आपको टेंशन लेने की ज्यादा आवश्यकता नहीं पड़ती है और नहीं रोज-रोज कोई झंझट झेलना पड़ता है, यहां पर आपने एक बार पैसा निवेश किया तो वह ऑटोमेटिकलि बढ़ता जाएगा। और भारत में ज्यादातर लोग स्टॉक मार्केट से ज्यादा एफडी पर भरोसा करते हैं। हालांकि अभी धीरे-धीरे लोगों का रुझान मार्केट के तरफ होने लगा है, अगर आप भी स्टॉक मार्केट सीखना चाहते हैं तो स्टॉक पत्रिका को फॉलो कीजिए।

आशा करते हैं आपको यह लेख FD Kya Hai पसंद आया होगा और काफी नॉलेजेबल जानकारी लगी होगी तो इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अवश्य शेयर कीजिए।

error: Content is protected !!