मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है? Muhurat Trading in Hindi,

डियर पाठक अगर आप ट्रेडिंग करते हो तो आपने एक नाम सुना होगा मुहूर्त ट्रेडिंग पहली बार सुनने में तो यह कुछ अजीब सा वर्ड लगता है लेकिन यह एक प्रकार की ट्रेडिंग होती है तो आज किस आर्टिकल में हम जानेंगे कि मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है Muhurat Trading in Hindi, आप भी मुहूर्त ट्रेडिंग कैसे कर सकते हैं? मुहूर्त ट्रेडिंग कब की जाती है, मुहूर्त ट्रेडिंग करने का क्या समय है इन सब सवालों के जवाब आज आपको मिलने वाले हैं

मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है? What is Muhurat Trading in Hindi?

डियर पाठक (Muhurat Trading) एक विशेष प्रकार का ट्रेडिंग सेशन होता है, और यह सेशन स्टॉक एक्सचेंजों (Stock Exchanges) द्वारा दिवाली के अवसर पर आयोजित किया जाता है। BSE और NSE दोनों एक्सचेंज दिवाली के ‘शुभ मुहूर्त’ के अनुसार 1 घंटे का ट्रेडिंग सेशन चलाते हैं।

ऐसा माना जाता है कि इस सेशन में ट्रेडिंग पूरे वर्ष निवेशकोंं (Investors) के लिए समृद्धि लाती है। और साथ ही इसके अन्य कारण भी हैं जो हम आगे देखेंगे। और आपको बता दें कि मुहूर्त ट्रेडिंग में ज्यादातर आर्डर खरीदने के होते हैं, जोकि बाजार को जोड़ने का प्रतीक है और बाजार पॉजिटिव नोट के साथ बंद होता है।

निवेश क्या है? और क्यों किया जाता है

मुहूर्त ट्रेडिंग की टाइमिंग, Muhurat Trading Timings

भले ही दीपावली के दिन स्टॉक मार्केट बंद होता है, लेकिन फिर भी निवेशकों के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन 1 घंटे के लिए चलता है, यह सेशन उस दिन के सबसे शुभ मुहूर्त वाले घंटे में आयोजित किया जाता है आमतौर पर यह 3:00 से 9:00 के बीच का समय होता है और हर वर्ष यह मुहूर्त के हिसाब से बदलता रहता है। और आपको बता दें कि कारोबारी समुदाय लगभग आधी सदी से इस परंपरा का पालन कर रहे हैं। 1957 के बाद BSE और 1992 के बाद से NSE इस विशेष प्रतीकात्मक ट्रेडिंग सेशन का आयोजन कर रहे हैं,

शेयर मार्केट कैसे सीखे हिंदी में

भारतीय निवेशकों के लिए क्यों खास है दिवाली?

जैसा कि हम सबको पता है हमारा भारत एक धार्मिक देश है उसी प्रकार यहां पर त्योहारों का भी बहुत महत्व है। भारत में दिवाली के त्यौहार का भी बहुत महत्व है दीपावली ‘अंधकार पर प्रकाश’, ‘बुराई पर अच्छाई’ और ‘अज्ञानता पर ज्ञान’ की जीत का प्रतीक है। लोग अपने घरों की सफाई करते हैं, नए कपड़े पहनते हैं, उपहारों और मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हैं और सोना खरीदते हैं।

इसके आध्यात्मिक महत्व के अलावा यह पारंपरिक हिंदू अकाउंटिंग वर्ष यानी कि हिंदू नव वर्ष की शुरुआत भी दर्शाता है जिसे ‘संवत’ या विक्रम संवत कहते हैं । धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी और शुरुआत के देवता गणेश की पूजा दिवाली पर की जाती है। आगे हम देखते हैं कि ट्रेडिंग कम्युनिटी के लिए क्यों खास है दीपावली।

शेयर कैसे खरीदें और बेचे?

ट्रेडिंग कम्यूनिटी के लिए खास, Exclusive to the trading community

भारतीयों में विशेष रूप से गुजरातियों और मारवाड़ियों द्वारा खाता बुक और तिजोरी के सामान की पूजा की जाती है। व्यापार और दुकानों में पुराने अकाउंट खाता को बंद किया जाता है। और नए वर्ष की शुरुआत सकारात्मक नोट से नई खाता बुक द्वारा करते हैं। और आपको बता दें कि परंपरागत ट्रेडिंग सेशन से पहले इन्वेस्टर और स्टॉक ब्रोकर माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी से आशीर्वाद लेने के लिए ‘ चौपड़ पूजन’ करते हैं। और यह पूजन मुहूर्त ट्रेडिंग में निवेश करने का एक अच्छा कारण प्रदान करता है।

मुहूर्त ट्रेडिंग वाले दिन क्या खरीदते हैं निवेशक

इस मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन में इन्वेस्टर और ब्रोकर्स अक्सर मूल्य-आधारित शेयर खरीदते हैं, जो लॉन्ग टर्म के लिए अच्छे होते हैं। अक्सर ऐसा माना जाता है कि इस मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान विशेष मुहूर्त में ग्रहों की स्थिति इस प्रकार होती है कि या गया निवेश निवेशकों के लिए सौभाग्य और समृद्धि लाता है। और कई सारे इन्वेस्टरो का मानना है कि इस अवसर पर खरीदे गए स्टॉक्स को भाग्यशाली आकर्षण के रूप में रखा जाना चाहिए। कुछ निवेशक तो शेयर खरीदते हैं और उन्हें अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं। कुछ भी नया शुरू करने के लिए भारत में अक्सर दिवाली को आदर्श माना जाता है क्योंकि इस दिन एक तो हिंदू नव वर्ष प्रारंभ होता है दूसरा दीपावली रोशनी का त्योहार है, कई लोग इस विशेष ट्रेडिंग सेशन के दौरान स्टॉक मार्केट में पहली बार निवेश करते हैं।

अगर आप भी इस दिवाली अपना पहला निवेश करना जा रहे हैं तो आपको स्टॉक पत्रिका की तरफ से बहुत-बहुत हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं।

मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन आमतौर पर बाजार ऊपर बढ़ता हैं

डियर पाठक अक्सर ऐसा देखा गया है कि मार्केट मुहूर्त ट्रेडिंग सत्र में ऊपर की ओर बढ़ता है। और सभी सेग्मेंट्स में खरीदने के ऑर्डर अधिक होने से इन्वेस्टर की भावना पॉजिटिव रहती है। और आपको बता दें कि इस दिन स्टॉक की कीमतें लगभग स्थिर रहती है क्योंकि अधिकांश इन्वेस्टर बिक्री के बजाय खरीदना अधिक पसंद करते हैं। इन्वेस्टर सामान्यतः मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान वैल्यू इन्वेस्टमेंट में शामिल होते हैं।

शेयर खरीदने वाले ऐप

डीमैट अकाउंट कैसे खोलें

इसी कारण शेयर बाजार में इन्वेस्ट करने, बड़ी खरीदारी, टोकन निवेश या फर्स्ट बार खरीदारी करने के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग को सही दिन माना जाता है। लेकिन स्टॉक पत्रिका आपको यह सुझाव नहीं देती है बल्कि हमारा फोकस तो यह है कि आप भावनाओं में ना बहकर दिमाग से काम करें, क्योंकि अक्सर देखा जाता है लोग भावनाओं में बहकर ओवरवैल्यूड शेयरों की खरीद कर लेते हैं, आपको ऐसा नहीं करना है डियर पाठक सांस्कृतिक और धार्मिक भावना एक इन्वेस्टर के निर्णय लेने की प्रक्रिया में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखती है, लेकिन स्टॉक मार्केट में अगर आपको सफल होना है तो पहले आपको स्ट्रांग फाइनेंशियल एनालिसिस करना होगा।

निष्कर्ष, मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है?

आज के इस लेख में हमने सीखा कि मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है, (Muhurat Trading in Hindi) मूहूर्त ट्रेडिंग क्यों की जाती है? मुहूर्त ट्रेडिंग का टाइमिंग क्या है और मुहूर्त ट्रेडिंग को क्यों महत्वपूर्ण माना जाता है निवेश के अंदर, मुहूर्त ट्रेडिंग दीपावली के अवसर पर कुछ समय के लिए की जाती है इस दिन शेयर मार्केट तो बंद होता है लेकिन निवेशकों के लिए स्टॉक एक्सचेंज 1 घंटे के लिए निवेश की यह व्यवस्था करते हैं जोकि शुभ मुहूर्त देखकर तय होता है अगर आप भी इस दीपावली निवेश करने जा रहे हैं तो पहले मार्केट को अच्छे से समझ ले फिर ही निवेश करें स्टॉक मार्केट सिखाने के लिए स्टॉक पत्रिका आपकी सेवा में हाजिर है।

error: Content is protected !!