Sip kya hai

SIP Kya hai? एस आई पी क्या है What is SIP

SIP Kya hai? सिप एक ऐसा investing प्लान है जिसके अंदर आपको हर महीने एक निश्चिंत अमाउंट को इन्वेस्ट करना होता है जैसा कि आपको Sip (systematic investment plan) के नाम से ही पता चलता है कि यह सिस्टमैटिक ढंग से चलने वाला प्लान होता है Sip की शुरुआत आप ₹500 से भी कर सकते है

SIP Kya hai in hindi

SIP Kya hai? दोस्तों यह एक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट होती है जहां पर व्यक्ति थोड़ा थोड़ा पैसा हर महीने इन्वेस्ट करता है और काफी लंबे समय के बाद उसे बहुत अच्छा रिटर्न देखने को मिलता है

How to start SIP (SIP कैसे शुरू करें?)

1). Sip की शुरुआत करने के लिए आपके पास एक डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना आवश्यक है

2). इसके बाद आपको एक ऐसे म्यूचल फंड का चुनाव करना होता है जो कि आपके पैसे को सिस्टमैटिक ढंग से इन्वेस्ट करें और आपको रिटर्न कमा कर दे, मार्केट में आपको कई सारे म्यूचल फंड

जैसे की icici Pru Midcap Fund और Sbi Bluechip Fund आदि मिल जाएंगे

3). अब आपको आपके द्वारा चुने गए म्युचुअल फंड की शुरुआत करनी होती है और इसके बाद हर महीने आपके द्वारा चुनी गई राशि आपके बैंक खाते से ऑटोमेटिक क्रेडिट हो जाती है

इस तरह से आप इन्वेस्टमेंट की शुरुआत कर सकते हैं

SIP कैसे काम करता है ? (How Work Sip)

Sip ऐसा सिस्टमैटिक प्लान है जिसके अंदर हर महीने आपके द्वारा चुने गए म्यूचल फंड आपके अकाउंट से ऑटोमेटिक पैसे को Dedcut कर लिया जाता है

इस पैसे के बदले आपके डीमेट और ट्रेडिंग अकाउंट के अंदर यूनिट ( जिस तरह किसी कंपनी के शेयर होते हैं उसी तरह म्यूचल फंड के यूनिट होते हैं ) ट्रांसफर कर दिया जाता है

अब जैसे-जैसे वह म्यूचल फंड आगे बढ़ेगा वैसे वैसे आपको फायदा होता जाएगा

Ex. SIP के ऊपर मिलने वाला रिटर्न हमेशा समान नहीं रहेगा क्योंकि म्यूचल फंड और एसआईपी भी स्टॉक मार्केट का हिस्सा है इसीलिए मार्केट में उतार और चढ़ाव आना आम बात है

मार्केट में उतार-चढ़ाव के कारण कभी आपको बहुत ज्यादा रिटर्न मिल जाएगा तो किसी साल आपको बहुत कम रिटर्न मिलेगा लेकिन यदि आप 5 साल और 10 साल या इससे ज्यादा का सोच कर चलते हैं तो लॉन्ग टर्म में आपको फायदा ही होता है

सीप के फायदे ( Advantages of sip )

Sip के बहुत सारे फायदे होते हैं जैसे रिटर्न पर कम टैक्स देना होता है और भी कई सारे चलिए इनको डिटेल से जानते हैं

1). व्यवस्थित निवेश (Systematic Investment) – दोस्तों आपको सीप के माध्यम से इन्वेस्ट करने का एक व्यवस्थित स्वरूप मिल जाता है

जिसके माध्यम से बड़े-बड़े फंड मैनेजर और पढ़े लिखे लोग जिनको स्टॉक मार्केट और फाइनेंस के बारे में अच्छी जानकारी होती हैं वह लोग आपके पैसे को एक सही और सिक्योर कंपनी के अंदर इन्वेस्ट करते हैं

2). छोटा निवेश (small investment) – Sip मैं निवेश की शुरुआत मात्र ₹500 से की जा सकती हैं जिसके कारण आपको अपने खर्चो से अलग पैसा निकालने की जरूरत नहीं पड़ती है

क्योंकि एसआईपी के अंदर आपको एक छोटा निवेश करके लंबे समय में बहुत अच्छा लाभ मिलता है

3). रिस्क कम (Low Risk) – क्योंकि सीप में आप थोड़ा थोड़ा पैसा हर महीने इन्वेस्ट करते हैं जिसकी वजह से रिस्क काफी कम हो जाता है

इसके अलावा आप जिस म्यूचल फंड में अपने पैसे को इन्वेस्ट करते हो उस फंड को बड़े-बड़े मैनेजर के द्वारा मैनेज किया जाता है जिसके कारण भी आपका रिस्क कम हो जाता है

क्योंकि फंड मैनेजर एक अच्छी कंपनी का चुनाव करने के बाद ही आपके पैसे को इन्वेस्ट करते हैं

4). पैसे पर पैसा मिलना (Sip Compounding) –

आप कंपाउंडिंग के बारे में तो जानते ही हैं जिसमें व्यक्ति के द्वारा इन्वेस्ट किए गए पैसों के ऊपर मिलने वाले रिटर्न का भी ब्याज मिलता है

दरअसल जब आपके पैसे पर जो रिटर्न मिलता है उन पैसों को फंड मैनेजर के द्वारा वापिस रिइन्वेस्ट कर दिया जाता है जिसके कारण आपको रिटर्न पर भी ब्याज मिलता है

5). Stop Sip – दोस्तों जब शेयर बाजार में गिरावट आती है तो आप अपनी एसआईपी को कुछ समय के लिए बंद भी कर सकते हो और

जब बाजार फिर से ऊपर उठना शुरू हो जाए तो आप अपनी एसआईपी को चालू कर सकते हो

6). टैक्स पर छूट (Tax Rebate) – दोस्तों जब आप किसी म्यूचल फंड के अंदर एक निश्चित समय अंतराल के लिए एसआईपी की शुरुआत करते हो जिसको लोग इन पीरियड कहा जाता है

इस पीरियड के अंदर आप 3 साल या 5 साल तक अपने पैसे को नहीं निकाल सकते है लेकिन जब आप इस पैस पर मिलने वाले रिटर्न को निकालते हे

तो आपको टैक्स के लिए काफी काफी ज्यादा छूट मिलती है

सिप के नुकसान ( Disadvantages of Sip )

1). फायदा कम (Less profit) – दोस्तों जब आप ऐसा ही Sip शुरू करते हो तो इसकी कोई गारंटी नहीं होती है कि आपको अच्छा रिटर्न मिलेगा

2). आय का स्रोत (Source of income) – यदि आप अपनी एसआईपी को नियमित तारीख पर नहीं भर पाते हो तो इससे आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है इसलिए आपके पास एक आय का स्त्रोत होना आवश्यक है

3). हर महीने भरना (Every Month) – क्योंकि दोस्तों एसआईपी में हर महीने पैसा भरने की आवश्यकता होती है जिसके कारण आपको हर महीने पैसे की व्यवस्था करनी पड़ती है

4). नियमित आय (regular income) – आपके पास Sip को भरने के लिए नियमित आय होना आवश्यक है नहीं तो आपको काफी हद तक एसआईपी की पलेंटी का नुकसान उठाना पड़ सकता है

5). इनके अलावा एसआईपी के और भी ऐसे कई सारे छोटे बड़े नुकसान होते हैं

SIP डॉक्यूमेंट ( Important Documents for SIP )

दोस्तों चाहे आपको बैंक में खाता खुलवाना हो या फिर शेयर मार्केट में डीमेट और ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना हो आजकल लगभग हर जगह आप के कुछ महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है उ

सी प्रकार आपको एसआईपी शुरू करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होती है

  • बैंक अकाउंट
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो

इन दस्तावेजों का होना आपके पास अति आवश्यक है

SIP से संबंधित पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न ?

Q. Sip पर कितना रिटर्न मिलता है ?

Ans. दोस्तों एसआईपी पर कोई भी फिक्स रिटर्न नहीं मिलता है यहां पर आपको किसी साल 20% रिटर्न मिल जाएगा तो आपको किसी साल 12% ही रिटर्न मिलेगा लेकिन यदि आप लंबे समय के लिए होल्ड करते हैं तो आपको अच्छा रिटर्न मिलेगा हे.

Q. क्या Sip Fd से ज्यादा रिटर्न देती हैं

Ans. आप एसआईपी को लंबे समय के लिए होल्ड करते है तो आपको प्रतिवर्ष 12% से 15% का रिटर्न आसानी से मिल जाता है जो कि Fd से बहुत ज्यादा होता है इसके अलावा Sip मैं आपका पैसा कंपाउंड होता रहता है

Q. सीप मैं रिस्क कितना है ?

Ans. दोस्तों Sip को आप अपनी मर्जी के अनुसार चालू और बंद कर सकते है और इसके अलावा आप एसआईपी में छोटी-छोटी किस्तों के माध्यम से पैसा इन्वेस्ट करते हैं जिसके कारण आपका रिस्क बहुत कम हो जाता है

Q. क्या एसआईपी 1 साल के लिए सही है

Ans. यदि आप एसआईपी को 1 साल के लिए होल्ड करते हो तो आपको बहुत कम रिटर्न देखने को मिलता है इसलिए एसआईपी लंबे समय के लिए सही रहती हैं लेकिन यदि आप चाहो तो 1 साल के लिए भी Sip शुरू कर सकते है

Q. Sip Full Form in Hindi ?

Ans. Systematic Investment Plan

Q. Sip केलकुलेटर इन हिंदी ?

Ans. दोस्तों यह एक प्रकार का ऐसा केलकुलेटर होता है जहां पर आप एवरेज 12% से 15% के हिसाब से यह कैलकुलेट कर सकते हैं कि आपके द्वारा शुरू की गई एसआईपी के ऊपर अगले 5 साल और 10 साल के अंदर कितना रिटर्न मिलने वाला है

Sip पैसों को इन्वेस्ट करने का एक ऐसा सिस्टम एंटीक तरीका है जहां पर रिस्क बहुत कम होता है और साथ ही

Conclusion

दोस्तों इस लेख SIP Kya hai? में बताई गई जानकारी को आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर करें ताकि सभी लोग बढ़ते वक्त के साथ अर्थव्यवस्था और फाइनेंस के बारे में सीख सकें साथ ही आपको इस लेख “SIP Kya hai?” से संबंधित किया सीखने को मिला है साथ ही SIP Kya hai? लेख के अंदर और क्या इंप्रूवमेंट करना चाहिए वह भी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं

Leave a Comment

Your email address will not be published.