Scalping Trading Meaning in Hindi | स्कैल्पिंग ट्रेडिंग

नमस्कार डियर पाठक आज के इस लेख में हम जानेंगे कि स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या होती है। (Scalping Trading Meaning in Hindi) स्टॉक मार्केट में लोग कुछ ही मिनटों के भीतर लाखों रुपए कमा लेते हैं वह भी बिना किसी लॉस के, वह इसलिए क्योंकि वह लोग स्टॉक एक्सचेंज के शेयर पर Scalping Trading करते हैं। स्कैल्पिंग ट्रेडिंग कम टाइम में पैसा कमाने का एक अनूठा ट्रेडिंग सिस्टम है।

तो चलिए आगे बढ़ते हैं जानते हैं कि Scalping Trading क्या होती है इसका क्या मतलब होता है। ताकि हम स्कैल्पिंग ट्रेडिंग को अच्छी तरह से समझ पाए।

डेरिवेटिव ट्रेडिंग क्या है

कैसे करते हैं स्टॉक का फंडामेंटल एनालिसिस

Scalping Meaning in Hindi, स्कैल्पिंग ट्रेडिंग का मतलब क्या है?

Scalping Meaning in Hindi – Scalping Trading का हिंदी में शाब्दिक अर्थ – ‘कालाबाजारी व्यापार’ होता है। हालांकि इसे सरल भाषा में समझे तो स्कैल्पिंग ट्रेडिंग का मतलब होता है नियमों से हटकर ट्रेडिंग करना इसे ही Scalping Trading कहते हैं।

स्कैल्पर्स कौन हैं?

डियर पाठक अब आपके दिमाग में आ रहा होगा कि आखिर यह स्कैलपर्स कौन है और यह ट्रेडिंग से कैसे कमाई करते हैं। स्कैल्पिंग ट्रेडिंग एक व्यापारिक शैली है जो प्रॉफिट को बढ़ाने के लिए स्मॉल प्राइस में परिवर्तन से कमाने में नियोजित है। आपको बता दें कि स्कैल्पर अक्सर एक छोटी सी अवधि में ट्रेडिंग करते हैं, हालांकि एक स्कैल्प ट्रेडर के पास सख्त एक्जिट पॉलिसी होना बेहद जरूरी है।

क्योंकि एक बड़ा लॉस सभी प्रॉफिट्स को खत्म कर सकता है जो निवेशक ने अन्य ट्रेड में बनाया है, इसलिए एक स्कैल्प ट्रेडिंग को अनुशासन, निर्णायकता, सहनशक्ति, स्वच्छ माइंडसेट की आवश्यकता होती है। अगर किसी के अंदर क्वालिटी है तो आप एक सक्सेसफुल स्कैलपर बन सकते हैं। हां लेकिन आपको ट्रेडिंग के बारे में संपूर्ण जानकारी होना आवश्यक है और रिसर्च करना बहुत जरूरी है।

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या होती है, Scalping Trading Kya hai

जब कोई निवेशक स्टॉक मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग करता है तो वह एक ही दिन के भीतर मार्केट के खुलने और बंद होने के मध्य शेयर को खरीदता और बेचता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यह नियम है की इंट्राडे ट्रेडिंग में निवेशक कम दाम में शेयर खरीदता है और अधिक दामों में बेचकर प्रॉफिट कमाता है।

लेकिन इसके लिए उसे अपनी पोजीशन को काफी देर तक होल्ड करके रखनी पड़ती है और कभी कभी यह काम जल्दी भी हो जाता है। लेकिन निवेशक को को कम दाम पर शेयर खरीदने के लिए इंतजार करना पड़ता है। लेकिन स्कैल्पिंग ट्रेडिंग में ऐसा नहीं है।

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या है? –स्कैल्पिंग ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा उछाल वाले स्टॉक्स को चुना जाता है, इसके बाद पूरी मार्जिन मनी के साथ स्टॉक्स को खरीद लिया जाता है, और फिर जैसे ही उस स्टॉक्स की थोड़ी सी कीमत बढ़ जाती हैं तो उसे सेल कर दिया जाता है। स्कैल्पिंग ट्रेडिंग आमतौर पर 1 मिनट से 25 मिनट के अंदर अंदर होती है।

Scalping Trading Kaise Kare

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले निवेशकों को एक Strategy बनानी होती है ताकि निवेशक उसी स्ट्रेटेजी के अनुसार ट्रेडिंग फील्ड में कार्य कर सकें। स्कैल्पिंग ट्रेडिंग कैसे करते हैं इससे हम एक उदाहरण के माध्यम से समझेंगे –

मान लीजिए किसी निवेशक ने एक स्कैल्प शेयर चुना और उस शेयर की कीमत में बहुत ज्यादा उछाल आता है। कहने का मतलब हर 15:20 मिनट में 25 पैसे से लेकर ₹1.50 तक वोलैटिलिटी होती है। अब निवेशको को सबसे पहले अपने ट्रेडिंग अकाउंट में जाकर उस कंपनी के शेयर को खरीदना है।

अब जैसा की आप सबको पता है कि निवेशक स्कैल्पिंग ट्रेडिंग कर रहे हैं तो उन्हें जितना पैसा है उसके शेयर खरीदना है। यहां पर आप अपने ट्रेडिंग अकाउंट का लगभग 90% मार्जिन उपयोग में ले सकते हैं, यहां पर आपको 5 गुना मार्जिन मिलता है अब निवेशक ने मान लेते हैं ₹110 प्रति शेयर के हिसाब से शेयर खरीद लिए।

तो अब तुरंत सबसे पहले स्टॉपलॉस लगाना है स्टॉप लॉस आप ₹109.50 प्रति शेयर के हिसाब से लगा दे। stop-loss की ज्यादा जानकारी के लिए आप यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं स्टॉपलॉस क्या होता है और कैसे लगाएं।

अब निवेशकों को अपना टारगेट लगाना है ट्रिगर प्राइस 110.50‌ रुपये/पैसे प्रति शेयर अब जैसे ही स्टॉक की कीमत टारगेट हिट करती हैं तो निवेशकों के स्टॉक्स ऑटोमेटिक सेल हो जाएंगे और उनका प्रॉफिट उनके अकाउंट में चला जाएगा।

Scalping Trading के मुख्य बिंदु

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग के कुछ टिप्स है जिनका आपको पालन करना है।

  1. कभी भी पूरी मार्जिन मनी का इस्तेमाल नहीं करें।
  2. हमेशा रिसर्च करके की ट्रेड ले अनुमान के हिसाब से ना चले।
  3. हमेशा स्टॉप लॉस लेकर चलें ताकि आपको बड़ा जोखिम ना उठाना पड़े।
  4. बिल्कुल लालच ना करें जितना आप का टारगेट है बस वही रखें।
  5. मार्केट से फाइट नहीं करें और बार-बार ट्रेड नहीं ले।
  6. एक ही कंपनी के शेयर बार-बार ट्रेड ना करें।

निष्कर्ष : Scalping Trading Meaning in Hindi

डियर पाठक आप चाहे ट्रेडिंग के किसी भी है सेगमेंट या सेक्टर में निवेश करें उसके लिए जरूरी है अनुशासन में रहना क्योंकि अगर आप मार्केट से बार-बार बहस करेंगे तो मार्केट आपको निपटा देगा। इसलिए जो गलती हुई है उसे दोबारा ना दोहराए और अपनी गलती को स्वीकार करें।

Scalping Trading में आपको बहुत जल्दी एक्शन लेना पड़ता है इसलिए अगर आप शुरुआती ट्रेडर हैं तो आप फिलहाल इसे अवॉइड करें, क्योंकि यह एडवांस लेवल का कार्य है। जब आप सीख जाएंगे तो आराम से करेंगे इसे।

आशा करते हैं आज का लेख Scalping Trading Meaning in Hindi आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और आपको, Scalping Trading ट्रेडिंग के बारे में भी जानकारी मिल गई होगी।

Leave a Comment

error: Content is protected !!